jaipur

राजस्थान का सियासी संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। अब इस बीच शुक्रवार को राजस्थान की सियासत में एक और नया मोड़ सामने आया है जिसके बाद जयपुर में हलचल बढ़ गई।

योग गुरु स्वामी रामदेव कोरोना वायरस की दवा 'कोरोनिल' के लॉन्च के बाद से ही मुसीबत में पड़ गए। दवा को लेकर रामदेव समेत 5 के खिलाफ जयपुर में केस दर्ज हुआ है।

7 मई को अहमदाबाद से 1318 प्रवासी और दूसरी ट्रेन 14 मई को गुजरात के बड़ोदरा से 1815 प्रवासी मजदूरों को लेकर आई थी। बुधवार तड़के श्रमिक स्पेशल ट्रेन राजस्थान से 159 मजदूरों को लेकर इत्रनगरी पहुंची।

पाकिस्तान वैसे तो अपनी नापाक हरकतों के लिए प्रसिध्द है, ऐसे में पाकिस्तान से आए टिड्डियों के दल ने देश की परेशानी को और बढ़ा दिया है। वहीं राजधानी जयपुर में टिड्डियों के हमले ने इस साल लाखों हेक्टेयर में फैली फसलों को बर्बाद कर दिया है।

लॉकडाउन की घोषणा के एक महीने बाद जागी केंद्र सरकार ने मजदूरों को घर जाने के लिए परमिशन तो दे दी है लेकिन मजदूरों की परेशानियां अभी भी खत्म नहीं हुई हैं। लॉकडाउन की वजह से अपना रोजगार गंवा चुके प्रवासी मजदूरों के लिए घर जाना अभी भी एक बड़ा सवाल बना हुआ है।

आईएएस अधिकारी तेजस्‍वी राणा ने लाॅकडाउन का उल्लंघन करने वाले एक कांग्रेस विधायक के कार्यकर्ता की गाड़ी का चालान काट दिया था। विधायक स्वयं उस गाड़ी में बैठे थे। सरकार की इस कार्रवाई को केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

देशभर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण से खतरा टल ही नहीं रहा है। कोरोना का संक्रमण इतना भयानक होता जा रहा है कि अब जनाजों को भी कब्र के खुदन का इंतजार करना पड़ रहा है। ऐसा ही कुछ वाक्या जयपुर में देखने को मिल रहा है।

राजस्थान के जयपुर में आज यानि मंगलवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। जयपुर के आस-पास के इलाकों में सुबह 5.26 बजे करीब 15 सेकेंड तक ये झटके महसूस किए गए।