reliance

सऊदी अरामको और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) ने आज रिफाइनिंग, पेट्रोकेमिकल्स सहित तेल की बिक्री कारोबार में प्रस्तावित निवेश के लिए ऑयल टू कैमिकल्स (ओ2सी) डिवीजन में निवेश के संबंध में एक गैर-बाध्यकारी पत्र (एलओआई) पर हस्ताक्षर करने पर सहमति व्यक्त की है।

रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड (जियो), रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सहायक कंपनी और माइक्रोसॉफ्ट कॉर्पोरेशन ने भारतीय इकोनॉमी और समाज को डिजिटल आधार पर तेजी से बदलने के लिए एक नया करार किया है।

भारत में अगले 20 वर्षों में दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ते ईंधन बाजार की उम्मीद है, देश में यात्री कारों की संख्या में लगभग छह गुना वृद्धि होने का अनुमान है। आरआईएल और बीपी का उपक्रम भारत भर में 1,400 से अधिक साइटों पर आरआईएल के वर्तमान ईंधन रिटेलिंग नेटवर्क को शामिल और निर्माण करेगा, जिसका लक्ष्य अगले पांच वर्षों में 5,500 साइटों तक तेजी से विकास करना है।

नया शोरूम ए-116ए, एलडीए कॉलोनी, सेक्टर बी, कानपुर रोड पर खोला गया और उद्घाटन के इस अवसर पर कई आर्कषक ऑफर भी ग्राहको के लिये रखे गये।

रिलायंस जियो का गीगाफाइबर अब तक आमजनता तक नहीं पहुँच पाया है, इसकी पेशकश पिछले साल अगस्त में ही कि गयी थी लेकिन ये अभी तक लॉंच ना हो पाया। मगर आज जारी हुई एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, जियो देश भर में 'जियोगीगाफाइबर' की टेस्टिंग सफल होने के बाद कंपनी 1600 शहरों में होम ब्रॉडबैंड, स्मार्ट होम सल्यूशन, वायरलाइन शुरू करेगी।

राफेल डील इस समय चुनावी मुद्दा बनी हुई है। इसमें पीएम नरेंद्र मोदी के साथ ही बड़े कारोबारी अनिल अंबानी भी विपक्ष के निशाने पर हैं। लेकिन इससे शायद हमारी नौसेना को कोई फर्क नहीं पड़ता। इसीलिए अनिल की कंपनी को भारतीय नौसेना के लिए 5 पेट्रोल व्हीकल बनाने का ठेका दिया गया है।

नई दिल्ली : फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद की तरफ से एक मीडिया रपट में दावा किया गया है कि भारत सरकार ने राफेल ऑफसेट कांट्रैक्ट के लिए किसी खास निजी कंपनी की तरफदारी की, जिसके बाद रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को दोहराया कि सरकार का ‘वाणिज्यिक निर्णय’ में कोई हाथ नहीं है। रक्षा मंत्रालय …

रिलांयस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने बुधवार को कहा कि डेटा एक नया ईंधन है और इसे आयात करने की कोई जरूरत नहीं है।

रिलायंस समूह के चेयरमैन अनिल अंबानी ने मंगलवार (26 सितंबर) को कहा कि टेलीकॉम सेक्टर संकट में है और बैंक कोई लोन नहीं दे रहे हैं।

रिलायंस जियो सेवा को शुरू हुए एक साल हो गए। इस मौके पर रिलायंस जियो की पेरेंट कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लि. के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर मुकेश अंबानी ने कहा है कि जियो की सेवा ने इस भ्रम को तोड़ दिया कि भारत अत्याधुनिक तकनीक के लिए तैयार नहीं है।