social media

इंटरनेट की दुनिया में आम आदमी की जानकारियों से छेड़छाड़ के मामले अब स्थिति गंभीर हो चुकी हैं। इसका कारण है आपका पासवर्ड। विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) के एक नए शोध के मुताबिक दुनियाभर में डाटा से धोखाधड़ी के हर पांच में से चार मामले कमजोर पासवर्ड या फिर पासवर्ड के चोरी होने की वजह से सामने आ रहे हैं। 

दरअसल, यहां आसमान में एक काले रंग का छल्ला दिखाई दिया। इसके बाद इस काले छल्ले को लेकर सोशल मीडिया पर काफी चर्चा हो रही है। इस काले छल्ले का वीडियो काफी ज्यादा वायरल हो रहा है। लोग कह रहे हैं कि यह एलियन द्वारा बनाया गया रिंग है, तो आइए जानते हैं आगे क्या हुआ..

सोशल मीडिया में एक खबर बहुत ही तेजी के साथ वायरल हो रही है। खबर बेंगलूरू से जुड़ी हुई है। दावा किया जा रहा है कि यहां के नगर निगम ने खुले में शौच या पेशाब करने वाले लोगों से शहर को निजात दिलाने के लिए एक खास पहल की है।

पंजाब पुलिस आरोपी की गिरफ्तारी के लिए कासगंज में 24 घंटे से डेरा डालकर आरोपी की तलाश किया और उसके आने-जाने तक की जानकारी जुटाती रही। इसके बाद मंगलवार की शाम पुलिस ने आरोपी नोइल गुटन को उसके घर से दबोच लिया।

पठनीयता का यह संकट प्रिंट माध्यमों के सामने एक चुनौती की तरह है। सूचना और ज्ञान के लिए ई-माध्यमों और मोबाइल पर बढ़ती निर्भरता ने प्रिंट माध्यमों को बदलने की चुनौती भी दी है।

आज-कल का टाइम ऐसा हो गया है जब किसी को कुछ भी नया जानना होता है तो वो सीधा नेट ओं करके google पर जाते हैं। Google एक ऐसी ऑनलाइन साइट है, जहां हमे अपने हर प्रश्न का उत्तर मिल जाता है।

सोशल मीडिया यूजर्स के लिए नई खबर आ रही है। वॉट्सऐप ही एक ऐसा ऐप है जिसे यूजर्स सबसे ज्यादा यूज़ करते है। वॉट्सऐप वालों के लिए नई खबर आ रही है।

नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 को लेकर पार्टी द्वारा शुरू किये जा रहे जन-जागरण अभियान के प्रमुख व पार्टी के प्रदेश महामंत्री गोविन्द नारायण शुक्ला ने अभियान के संदर्भ में विस्तारपूर्वक बताते हुए कहा कि जन-जागरण अभियान के तहत पार्टी योजना रचना के अनुसार हम सबको प्रदेश में व्यापक स्तर पर अभियान चलाकर जन-जन तक पहुंचना है।

ToTok कंपनी ने कहा कि यह ऐप प्ले स्टोर और ऐपल स्टोर से हटा दी गई है, लेकिन जिन फोन में यह पहले से इंस्टॉल है वह यूज़र्स इसका इस्तेमाल कर सकता है। कंपनी ने ऐप के स्टोर से हटने की वजह टेक्निकल दिक्क्त बताया है।

जिले के डीएम अमेठी अरूण कुमार ने अपने ट्वीटर हैंडल पर पोस्ट जिले के लोगों को जागरूक करने का क़दम उठाया है। सीएए के बारे में क्या सच है और क्या अफवाह इसके बारे में उन्होंने जानकारी दी है।