surat

गुजरात के सूरत जिले में लोग एक फिर लॉकडाउन का उल्लंघन करते और पुलिस से भिड़ते नजर आये। सील किये गए क्षेत्रों से लोगों का आवागमन जारी है। इसे लेकर पुलिस कई बार लोगों से घरों में रहने की अपील करने के सात ही उनपर रोक लगा चुकी है।

लॉकडाउन के चलते कई लोग और मजदूर अपने राज्यों से दूर दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं। वहीं इस बीच गुजरात के सूरत से खबर आ रही है कि वहां मजदूरों ने घर वापसी को लेकर जमकर हंगामा किया।

लॉकडाउन के दौरान सूरत के रामनगर क्रोसरोड के पास घूम रहे एक शख्स को जब रोका गया तो HIV पॉजिटिव उस शख्स ने CISF के एक जवान की ऊंगली अपने दांतों से काट ली।

अहमदाबाद के बाद अब सूरत में भी हॉटस्पॉट इलाकों में कर्फ्यू का एलान कर दिया गया है। 16 अप्रैल से 22 अप्रैल के बीच सूरत के 4 पुलिस थाना इलाकों में कर्फ्यू लगाया जाएगा।

बांद्रा और सूरत के बाद अब दिल्ली में लॉकडाउन की धज्जियां उड़ाने का मामला सामने आया है। यहां यमुना नदी के किनारे हजारों की संख्या में दिहाड़ी मजदूर जमा हो चुके हैं। सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

कोरोना वायरस देशभर में तेजी से पांव पसरा रहा है। इस महामारी से निपटने के लिए सरकार ने देश में 3 मई तक लाॅकडाउन का एलान किया है। लॉकडाउन के बावजूद मंगलवार शाम बांद्रा स्टेशन पर हजारों प्रवासियों की भीड़ जमा हो गई।

लॉकडाउन के चलते मजदूर वर्ग सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहां तो वह क्षेत्र में फंस गए है और अपने घर जाने के लिए परेशान हैं तो वहीं आय का जरिया बंद हो जाने से रोजी रोटी का संकट झेल रहे हैं। इसी कड़ी में गुजरात में मजदूरों को गुस्सा फूटा और उग्र प्रदर्शन करते हुए उन्होने कई वाहनों में आग लगा दी।

हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या मामले को एटीएस ने सुलझा लिया है। गुजरात एटीएस ने 3 आरोपियों को सूरत से गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के मुताबिक कमलेश तिवारी की हत्या में 5 लोग शामिल थे।

अपने बहुत से लोगों की प्यार भरी कहानियां सुनी होगी। लेकिन जब ये प्यार एक तरफ़ा हो तो दूसरे इन्सान को इसकी कीमत चुकानी पड़ती है। यह कहानी है गुजरात की सूरत जेल में बंद एक कैदी की जो वडोदरा की एक किन्रर से प्यार कर बैठा और उसके इश्क में वो इस कदर पागल हुआ कि उसने जेल से ही कई बार फोन कर अपने प्यार का इजहार कर दिया।

गुजरात के सूरत में तक्षशिला आर्केड में लगी भीषम में एक शख्स ने अपनी जानपर खेलकर से करीब 10 बच्चों और स्टाफ की जान बचाई। लोगों को बचाने में उनके सिर में चोट लग गई। उन्हें इलाज के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।