vhp

विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार का कहना है कि पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादी शिविर पर भारतीय वायुसेना के हवाई हमले का जश्न मनाया जाना चाहिए क्योंकि यह सशस्त्र बलों की वीरता के साथ-साथ देश के राजनीतिक नेतृत्व के संकल्प को भी दर्शाता है।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में newstrack.com की खबर का बड़ा असर हुआ है। आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद विश्व हिंदू परिषद(वीएचपी) ने कलेक्ट्रेट परिसर के गेट पर झंडे लेकर जमकर हंगामा काटा था।

चुनाव आचार सहिंता लागू हुए अभी 24 घंटे भी नहीं बीते है, लेकिन उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में पुलिस के सामने इसकी जमकर धज्जियां उड़ाई गईं। यहां विश्व हिंदू परिषद ने कलेक्ट्रेट परिसर के गेट पर जमकर नारेबाजी की।

कार्यक्रम का संचालन केंद्रीय संत संपर्क प्रमुख अशोक तिवारी ने किया तथा अन्त में विहिप के प्रान्यासी मंडल के सदस्य दिनेश ने सभी संतों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम में भारी संख्या में युवा संत मौजूद रहे।

विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन ने कहा, विहिप ने आम चुनाव संपन्न होने तक अयोध्या में भगवान राम की जन्मस्थली पर राम मंदिर के निर्माण के लिए अपना अभियान रोकने का फैसला किया है। क्योंकि संगठन नहीं चाहता कि यह कोई चुनावी मुद्दा बने।

कुंभ नगरी में राम मंदिर को लेकर गरमाई सियासत में शुक्रवार को हुई विश्व हिन्दू परिषद की धर्म संसद में आखिरकार भारतीय जनता पार्टी को समर्थन करने का खुलकर ऐलान कर दिया है। हालांकि इसे लेकर संतों में दो मत हो गए हैं।

सूचना पर डायल 100 व कल्पवासी थाने के पुलिस भी मौके पर पहुंची और जांच के दौरान सेमारू के कर्मचारियों के कमरे में शराब की बोतलें भी बरामद हुई। कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने आरोपित हमलावर को गिरफ्तार कर लिया हालांकि चाकू बरामद नहीं हो सका।

विहिप का आरोप है कि शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के समर्थित साधु-संतों ने जानबूझकर हंगामा किया। फ़िलहाल मौके पर कुछ देर तक अफरा-तफरी का माहौल बना रहा।

विश्व हिंदू परिषद की धर्म संसद आज दोपहर एक बजे आरंभ हुई। धर्म संसद से पहले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के बीच सुबह मुलाकात भी हुई। आपको बता दें, इस समय धर्म संसद में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत संबोधित कर रहे हैं।

लोकसभा चुनावों की आहट के साथ ही राम मंदिर मुद्दा गरमा गया है। बीजेपी के अनुषंगी संगठन मंदिर मुद्दे को धार देने में लगे हैं। लेकिन बडबोले नेता धार को तेज करने के स्थान पर स्वयं ही कुंद कर रहे हैं। कैसे ये हम बता देते हैं.. मंदिर मुद्दे पर लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को समर्थन देने की बात पर विश्व हिन्दू परिषद की सफाई आई है।