अमेरिका-चीन में और बढ़ेगा टकराव! यह है पूरा मामला

पुलिस ने गत 28 सितंबर को जैकब को जब हिरासत में लिया आठ साल की उनकी बेटी भी उनके साथ थी। पुलिस ने उनके मोबाइल फोन और कंप्यूटर को अपने हिरासत में ले लिया है। चाइना होराइजंस में एसोसिएट डायरेक्टर के तौर पर काम करने वाली एलिसा को गत 27 सितंबर को पकड़ा गया था।

यह भी पढ़ें: लड़कियों को पसंद ये! बताती नहीं पर हमेशा ही खोजती हैं ये चीजें

बीजिंग: चीन में एक अमेरिकी जोड़ा हिरासत में लिया गया है। बताया जा रहा है कि चीन और अमेरिका में कारोबारी तनाव के बीच चीन में अंग्रेजी पढ़ाने के कारोबार से जुड़े एक अमेरिकी जोड़े को हिरासत में लिया गया है।

यह भी पढ़ें.  अरे ऐसा भी क्या! बाथरूम में लड़कियां सोचती हैं ये सब

दरअसल, पूर्वी चीन के जियांग्सु प्रांत में चाइना होराइजंस नामक कंपनी चलाने वाले जैकब हार्लन और एलिसा पीटरसन को पिछले माह हिरासत में लिया गया था।

यह भी पढ़ें.  झुमका गिरा रे…. सुलझेगी कड़ी या बन जायेगी पहेली?

इसके साथ ही खबर है कि उनकी कंपनी चीन के स्कूलों में अंग्रेजी पढ़ाने के लिए अमेरिकी शिक्षकों की व्यवस्था करती है। वहीं इस मामले में नया मोड़ देखने को मिल रहा है, चाइना होराइजंस के अपने फेसबुक पेज पर कहा गया है कि दोनों को झूठे आरोपों में पकड़ा गया है।

यह भी पढ़ें. लड़की का प्यार! सुधरना है तो लड़के फालो करें ये फार्मूला

एलिसा पर लगाया आरोप…

एलिसा पर आरोप लगाया गया है कि वह लोगों के साथ गैरकानूनी तरीके से सीमा पार जा रही थीं। जैकब को प्रांत के झेनजियांग शहर के एक होटल में पुलिस की निगरानी में रखा गया है।

यह भी पढ़ें. असल मर्द हो या नहीं! ये 10 तरीके देंगे आपके सारे सवालों के सही जवाब

पुलिस ने गत 28 सितंबर को जैकब को जब हिरासत में लिया आठ साल की उनकी बेटी भी उनके साथ थी। पुलिस ने उनके मोबाइल फोन और कंप्यूटर को अपने हिरासत में ले लिया है। चाइना होराइजंस में एसोसिएट डायरेक्टर के तौर पर काम करने वाली एलिसा को गत 27 सितंबर को पकड़ा गया था।

यह भी पढ़ें.  होंठों का ये राज! मर्द हो तो जरूर जान लो, किताबों में भी नहीं ये ज्ञान

अमेरिका बोला, हर स्थिति पर नजर…

इस मसले पर अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि दो अमेरिकी नागरिकों को हिरासत में लिया गया है, यह खबर हमारे संज्ञान में हैं। हम अमेरिकी नागरिकों की मदद करने की अपनी जिम्मेदारी को गंभीरता से निभा रहे हैं। स्थिति पर हमारी नजर है।

यह भी पढ़ें. ओह तेरी! पत्नी कहेगी पति से, बिस्तर पर ‘ना बाबा ना’

गौरतलब है कि अमेरिका ने चीन के शिनजियांग प्रांत के मुस्लिमों को हिरासत केंद्र में रखे जाने को लेकर चीनी अधिकारियों के वीजा पर प्रतिबंध लगा दिया है।

आपको बता दें कि अमेरिका-चीन के रिश्ते पहले से ही ट्रेड वॉर की वजह से तनावपूर्ण चल रहे हैं और इस नए कदम से दोनों देशों के बीच टकराव और बढ़ने की उम्मींदे तेज हो गई है।

अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कहा…

यह भी पढ़ें. बेस्ट फ्रेंड बनेगी गर्लफ्रेंड! आज ही आजमाइये ये टिप्स

अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कहा कि उइगर मुस्लिमों को निगरानी कैंप में रखे जाने के लिए जिम्मेदार चीनी अधिकारियों और नेताओं के लिए वीजा बैन कर दिया गया है। इन अधिकारियों और नेताओं के परिवार के सदस्यों की यात्रा पर भी बैन लागू होगा।