FATF

फाइनेंसियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) में फैसले से पहले पाकिस्तान को तगड़ा झटका लगा है। एफएटीएफ की मीटिंग में किसी देश ने पाकिस्तान का साथ दिया है। अब एफएटीएफ पाक के खिलाफ कड़ा ऐक्शन ले सकता है।

आर्थिक कंगाली की कगार पर खड़े पाकिस्तान की हालत अब खराब होने वाली है। फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट में डाल सकता है। अगर ऐसा हुआ तो पहले आर्थिक तंगी की मार झेल रहे पाकिस्तान को तबाह होने से कोई नहीं बचा सकता।

पाकिस्तान की कानून प्रवर्तन एजेंसी ने आतंकियों को फंडिंग के मामले में हाफिज सईद के संगठन लश्करे-ए-तयैबा और जमात-उद-दावा के 4 बड़े नेताओं को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने कहा कि इन संगठनों के नेतृत्व की जांच की जाएगी।

आतंकियों के लिए स्वर्ग पाकिस्तान की खैर नहीं है। पहले से ही पड़ोसी देश की अर्थव्यवस्था चौपट है। अब बहुत जल्द ही पाकिस्तान कंगाल भी हो जाएगा और पाकिस्तानियों को खाने के लाले पड़ने वाले हैं।

आर्थिक तंगी झेल रहे पाकिस्तान को एक और करारा झटका लगा है। अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के वित्तपोषण की निगरानी करने वाली संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने पाकिस्तान को पहले ही ग्रे लिस्‍ट में डालना था।

अनुच्छेद 370 हटने के बाद से पाकिस्तान भारत के खिलाफ साजिश रचने में लगा है। लेकिन इस बीच पड़ोसी देश पर बड़ा खतरा मंडरा रहा है। पहले से ही बदहाली झेल रहे पाकिस्तान को अब तबाह होने से कोई नहीं बचा सकता है।

पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत ने जिस तरह बालाकोट में जैश के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की उससे पाकिस्तान बिलबिला उठा है। पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के वित्तपोषण की निगरानी करने वाली संस्था फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स से कहा है कि भारत को संस्था के एशिया प्रशांत संयुक्त समूह के सह अध्यक्ष पद से हटाया जाए।