heavy rain

हिमाचल प्रदेश में ठंड प्रचंड होने लगी है। गुरुवार को ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हो रही है। वहीं, शिमला समेत कई इलाकों में बादल छाए हुए हैं। मनाली के रोहतांग और लाहौल स्पीति के केलांग और कोकसर में बर्फबारी हुई है।

जम्मू-कश्मीर में मौसम ने अचानक करवट ले ली है। बुधवार रात हुई भारी बर्फबारी और बारिश ने काफी तबाही मचाई है। कश्मीर घाटी में अचानक भारी बर्फबारी और बारिश से हजारों पेड़ नष्ट हो गए हैं।

दक्षिण भारत में लगातार मौसम करवट ले रहा है। मौसम विभाग ने चेतावनी देते हुए कहा कि अरब सागर में एक अनोखी घटना घट रही है।

सभी को ऐसा लग रहा था की बारिश चली गयी और ठंडी का मौसम आ गया है। लेकिन दक्षिण भारत के लोगों को अभी बारिश से आराम नहीं मिला है।

तेजी से बदल रहे मौसम की जानकारी देते हुए मौसम विभाग ने शुक्रवार को बताया कि तटीय कर्नाटक, कोंकण और गोवा में भारी बारिश होगी। अपने पूर्वानुमान में यह भी बताया है कि दक्षिण मध्‍य महाराष्‍ट्र, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में भी भारी बारिश होगी। 

भीषण बारिश ने देश के हर राज्य में तबाही मचा रखी है। इस वजह से सभी जगह अस्त-वस्त हो गया है। अब मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल के कोलकाता, झारखंड और ओडिशा में रविवार को कुछ स्थानों पर बारिश होने का अंदाजा लगाया है।

भारी बारिश का कहर पूरे देश में अब भी जारी है। हर जगह भीषण बारिश का कहर बना हुआ है। इसके साथ ही एक चक्रवाती हवाओं का अक्षेत्र पूर्वोत्तर भारत के भागों में बना है और एक ट्रफ रेखा पूर्वी यूपी से लेकर पूर्वोत्तर भारत तक सक्रिय हुई है।

भीषण बारिश और बाढ़ का कहर अभी तक बिहार में जारी है। बाढ़ की वजह से मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। बाढ़ से अब तक 73 लोगों की मौत हो चुकी है। इस बीच पटना में आज फिर बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

भीषण बारिश और बाढ़ की वजह से पूरे देश में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। देश के कई राज्य बाढ़ की चपेट में आ गए हैं, जबकि कई राज्यों में अब भी बारिश का कहर जारी है।

मौसम विभाग के अनुसार, लो प्रेशर वाला एक सिस्टम 10 दिनों तक एक्टिव होता है। इसके लगातार बनने की वजह से अगस्त और सितंबर महीने में बारिश हुई। कई ऐसे इलाके जहां कम बारिश हुई थी, सीजन के खत्म होते-होते वहां भारी बारिश हो चुकी