heavy rain

पुडुचेरी और तमिलनाडु के आसपास लैंडफॉल होने की संभावना है। इसके कारण तमिलनाडु के तटीय और उत्तरी भागों तथा दक्षिणी आंध्र प्रदेश और रायलसीमा क्षेत्र में भारी बारिश हो सकती है।

तटवर्ती क्षेत्रों में गहरा दबाव बना हुआ है जिसके कारण मौसम विभाग ने बारिश की संभावना जताई है। इसके साथ इन इलाकों में रहने वाले मछुआरों को मौसम विभाग की तरफ से खास निर्देश भी दिए गए हैं।

मौसम विभाग ने बताया कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ जो गहरे कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो सकता है। इसके साथ ही यह चक्रवाती तूफान में परिवर्तित हो सकता है। इसके कारण तमिलनाडु और दक्षिणी केरल में भारी बारिश होने की संभावना है।

दक्षिण भारत के कई राज्यों में एक दिसंबर से भारी बारिश हो शुरू हो सकती है। 1 दिसंबर से लेकर 3 दिसंबर तक तमिलनाडु के तटीय और उत्तरी इलाकों में बारिश हो सकती है। इसके साथ ही दक्षिणी आंध्र प्रदेश और रायलसीमा क्षेत्र में भारी से भारी बारिश हो सकती है।

भारतीय मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि दिल्ली-एनसीआर, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कई इलाकों में बारिश हो सकती है। इन इलाकों में गुरुवार से रविवार तक हल्की बारिश होने की संभावना है।

मौसम विभाग ने बताया है कि निवार चक्रवात कमजोर हो गया है और उत्तर-पश्चिम की तरफ बढ़ रहा है। मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने जानकारी दी कि तमिलनाडु में 29 नवंबर के बाद एक बार फिर भारी बारिश हो सकती है।

दिसंबर की शुरूआत होने में बस कुछ दिन ही बाकी हैं। उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर में बर्फबारी हो रही है, जिसकी वजह से मैदानी इलाकों में सर्द हवाओं के साथ तापमान बहुत कम हो गया है।

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में आया चक्रवाती तूफान निवार तेज़ी से तटीय इलाकों की तरफ बढ़ रहा है। पुडुचेरी को पार करने के बाद तूफ़ान की गति कुछ कम हुई है।

मौसम विभाग के मुताबिक, आंध्र प्रदेश में भी प्रमुख विभागों को तटीय एवं रायलसीमा क्षेत्रों के अधिकांश जिलों में अगले तीन दिनों में भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। इसके लिए हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।

चक्रवाती तूफान "निवार" मंगलवार से बृहस्पतिवार के बीच आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटीय क्षेत्रों में आ सकता है। एनडीआरएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने तैयारियों के बारे में बताते हुए कहा कि 12 दलों की पहले तैनाती की गई है।