teacher recruitment

युवाओं को नौकरी दिए जाने को लेकर विपक्षी दलों की तरफ से उठाए गए सवालों के बाद प्रदेश की भाजपा सरकार ने तेजी दिखाना शुरू कर दिया है।

गौरतलब है कि वर्ष 2018 में माध्यमिक शिक्षा विभाग ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा सहायक अध्यापकों के 10 हजार 768 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया शुरू की थी।

शिक्षक भर्ती टॉपरों की सूची में कई नाम ऐसे थे, जिन्हें बढ़ाकर नंबर देने का आरोप था। 150 नंबर में 140 अंक तक पाने वालों में कोई गाड़ी चालक तो कोई डीजे वाला बाबू बताया गया था।

प्रदेश के कई जिलों के कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय स्कूलों में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर शिक्षक की नौकरी करने वाली अनामिका शुक्ला प्रकरण में पुलिस ने जांच का दायरा बढ़ा दिया है। इसी का नतीजा है कि अब कासगंज पुलिस के हाथ बड़ी कामयाबी लगी है।

सहायक शिक्षक भर्ती के 69000 पदों के लिए चयनित उम्मीदवारों को जिला आवंटित कर दिया गया है। इसके लिए प्रयागराज स्थित बेसिक शिक्षा परिषद ने उम्मीदवारों के जिला आवंटन की फाइनल लिस्ट भी जारी कर दी है।

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में तारीखों के अनुसार संबंधित जनपदों के छात्र-छात्राएं विवि आकर प्रमाण पत्र के लिए आवेदन कर सकते है या प्राप्त कर सकते है

यूपी सहायक शिक्षक भर्ती 2019 की आखिरी और फाइनल आंसर की जारी हो गयी है। उम्मीदवार ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर चेक कर सकते हैं कि उनका सलेक्शन हुआ है या नहीं।

प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 1076336 व उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 569174 अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन आवेदन किया है। इस बार साफ्टवेयर में बदलाव करने के कारण अभ्यर्थी दोहरे आवेदन नहीं कर सके। इसीलिए किसी का आवेदन निरस्त नहीं हुआ।

देश 20 आईआईएम संस्थान ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय से पत्र लिखकर मांग की है कि उन्हें ‘इंस्टीट्यूशंस ऑफ़ एक्सिलेंस’ का दर्जा दिया जाए। यह दर्जा इन शीर्ष प्रबंध संस्थानों को सम्मान दिलाने या छात्र-छात्राओं या देश के हित को देखते हुए नहीं मांगा गया है