अजब गजब

ऐसे ही एक शख्स के बारे में बता रहे हैं, जो दुनिया की सबसे खतरनाक जगह पर अकेला रहते है। जो पिछले नौ साल से वीरान है। यह शख्स बिना किसी डर-भय के वहां आराम से जिंदगी गुजार रहे है। इस शख्स का नाम है नाओतो मात्सुमुरा और ये  जापान के एक छोटे से शहर तोमियोको में रहते हैं।नाओतो मात्सुमुरा पेशे से किसान हैं। 

सैकड़ों साल से चले आ रहे कुछ अजीबोगरीब कानून, जिनके पीछे कोई लॉजिक नहीं है। कहीं जनवरों को चिढ़ाने तो कहीं बल्ब बदलने पर सजा हो सकती है। ये कानून परंपरा की तरह चले आ रहे हैं, इन्हें किसी ने बदलने की कोशिश आजतक नहीं की।

हिमाचल प्रदेश के एक गांव में ये परंपरा सालों से निभाई जा रही है, जिसके अंतर्गत शादी के बाद पांच दिनों तक पति-पत्नी आपस में हंसी-मजाक भी नहीं कर सकते, इसके साथ ही नवविवाहिता को पांच दिनों तक बिना कपड़ों के रखा जाता है।

गुजरात के बढ़ोदरा में भगवान शिव का एक ऐसा मंदिर है जो देखते ही देखते गायब हो जाता है और फिर अचानक ही दोबारा दिखने लगता है। इस मंदिर की इसी खूबी के कारण यह दुनियाभर में प्रसिद्ध और भोले के भक्त इस घटना को अपनी आंखों से देखने के लिए दौड़े चले आते हैं।

अमेरिका की पिट्सबर्ग यूनिवर्सिटी से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. जहां एक बुजुर्ग महिला के शरीर में शराब बन रही है. जी हां, जांच में ये बात सामने आने के बाद डॉक्टर भी हैरान है. बताया जा रहा है कि बुजुर्ग महिला की उम्र 61 साल है जो काफी समय से सिरोसिस और डायबिटीज से जूझ रही है

दुनिया में सभी चाहते हैं कि उनकी हाइट अच्छी हो, कद-काठी अच्छी हो और वो सुन्दर दिखे। लेकिन हर किसी की इच्छा पूरी नहीं होती है। दुनिया में कोई लम्बा तो कोई बौना होता हैं। हांलाकि बौने लोगों की संख्या कम होती है। लगभग 20000 में से एक ही व्यक्ति बौना होता हैं।

इंसान अगर आरो का पानी पिए, महलो में हर सुख सुविधा के साथ रहे तो की आश्चर्य की बात नहीं होती, लेकिन ये सारी सुविधाएं अगर जानवरों को मिले तो इसमें आश्चर्य जरूर होगा। पूना में भाग्यलक्ष्मी नाम से चल रही डेयरी में रहने वाली गायों को कुछ सी तरह की सुविधाएं दी जाती है।

 विश्व प्रसिद्ध नगर देवबंद से आठ किलोमीटर दूर मिरगपुर एक ऐसा अनूठा गांव है, जो अपने विशेष रहन सहन और सात्विक खानपान के लिए जाना जाता है। इस गांव में ना तो कोई शराबी है और ना ही कोई नॉनवेज खाता है। यहां तक कि लोग प्याज और लहसून तक भी नहीं छूते।

अगर आपने हवाई जहाज में जर्नी की है तो एक नई कई सवाल मन में आते होंगे और ना जाने कितनी सारी क्यूरिसिटी होती होगी। पर क्या आपने कभी हवाई जहाज में यात्रा करते हुए ये  सोचा है कि आखिर विमान की खिड़की गोल क्यों होती हैं? नहीं सोचा तो अब सोच लें। इसका जवाब भी आपको मिलेगा।  जानिए विमान से जुड़ें इंटरेस्टिंग फैक्ट्स...

इस सफेद मगरमच्छ की खातिरदारी भी ठाठ-बाट से होती है। क्योंकि ये मगरमच्छ सामान्य प्राकृतिक अवस्था में जीवित नहीं रह पाता है। इसलिए बाकायदा इस सफेद मगरमच्छ की रोज ब्रश से सफाई होती है और जिस पानी में वह रहता है उसे भी कुछ दिनों के अंतर में लगातार बदला जाता है।