LAC

चीन ने भारत के खिलाफ लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर अक्साई चिन में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की तैनाती की है। जिसके बाद भारतीय वायुसेना के चिनूक हेलिकॉप्टर रातभर पेट्रोलिंग करते रहे।

कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री को ‘श्वेत पत्र’ जारी करके स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए, और जिस किसी ने भी झूठ बोला है उसे देश से माफी मांगनी चाहिए।

एलएसी से बड़ी खबर आ रही है। लाइन ऑफ एक्च्यूअल कंट्रोल के पास चीन ने अपने परमाणु हथियार ले जाने वाली मिसाइल को तैनात कर रखा है। चीन की इन हरकतों का सैटेलाइट तस्वीरों से खुलासा हुआ है।

लद्दाख में LAC पर जारी डिसएंगेजमेंट प्रक्रिया के दौरान चीन ने केंद्र में स्थित पैगॉन्ग झील से अपने सैनिक हटाने से इनकार कर दिया है।

बीते 3-4 महीने से लद्दाख में लाइन ऑफ एक्च्यूअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारत और चीन के मध्य तनातनी जारी है। ऐसे में जारी इस तनाव को लेकर दोनों देशों के बीच आज फिर बातचीत होनी है।

लाइन ऑफ एक्च्यूअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन के साथ चल रहे तनाव के बीच भारत अब अपनी सैन्य क्षमताओं को पहले से काफी ज्यादा मजबूत करने में लगा हुआ है।

बॉर्डर पर हालात अभी भी तनावपूर्ण है। जुलाई महीने की शुरुआत में ही सैनिकों के पीछे हटने पर सहमति बनी थी, लेकिन अभी यह कुछ हद तक ही सफल हो पाई है।

वायुसेना कमांडर्स की कांफ्रेंस में राजनाथ सिंह ने लद्दाख में वायुसेना की भूमिका की जमकर तारीफ की। साथ ही कहा कि हमें सतर्क रहने की जरूरत है।

लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन अभी भी अपनी चालबाजियों से बाज नहीं आ रहा है। चीन ने अभी तक दोनों देशों में सेना हटाने के लिए बनी सहमति के बिंदुओं को पूरा नहीं किया है।

चीन ने लद्दाख के दो हिस्सों डेपसांग समतल क्षेत्र और दौलत बेग ओल्‍डी क्षेत्र में निर्माण गतिविधियां बढ़ा दी है। भारत को चीन के इस निर्माण से आपत्ति हैं।