सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, यहां बनेगा मंदिर

केंद्र सरकार ने प्रस्ताव में मंदिर के लिए 200 वर्ग गज की मांग की थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने बढ़ाकर 400 वर्ग गज कर दिया है, सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर तोड़े जाने के बाद विरोध और हंगामा करने के आरोप में गिरफ्तार लोगों को निजी मुचलके और बांड पर रिहा करने का आदेश भी दे दिया है।

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या राम मंदिर पर फैसला सुरक्षित रखने के बाद अब दिल्ली के तुगलकाबाद में तोड़े गए भगवान संत रविदास मंदिर पर अपना निर्णय सुनाया है।

यह भी पढ़ें. लड़की का प्यार! सुधरना है तो लड़के फालो करें ये फार्मूला

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया कि इस मंदिर का फिर से निर्माण किया जाएगा, इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर हरी झंडी दे दी है, बताया जा रहा है कि इस मंदिर के निर्माण के लिए केंद्र सरकार 400 गज जमीन देगी।

यह भी पढ़ें. असल मर्द हो या नहीं! ये 10 तरीके देंगे आपके सारे सवालों के सही जवाब

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कुछ शर्तों के साथ संत रविदास मंदिर की 400 वर्गगज जमीन सरकार की ओर से बनाई जाने वाली समिति को सौंपने के केंद्र सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

यह भी पढ़ें. नहीं सुधरेगा पाकिस्तान! दे रहा इस कायराना हरकत को अंजाम

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा…

इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा है कि मंदिर के मैनेजमेंट के लिए एक समिति का गठन करे, इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि समिति के सदस्य के तौर पर पूर्व सदस्य और अन्य केंद्र सरकार को आवेदन दे सकते हैं। SC ने 6 सप्ताह में समिति के गठन का आदेश दिया है।

पिछली सुनवाई में केंद्र सरकार ने रविदास मंदिर के लिए जमीन देने का वादा किया था। 200 स्क्वायर मीटर की यह जमीन दक्षिणी दिल्ली में उसी जगह दी जाएगी , जहां मंदिर को तोड़ा गया था।

यह भी पढ़ें.  होंठों का ये राज! मर्द हो तो जरूर जान लो, किताबों में भी नहीं ये ज्ञान

केंद्र सरकार का पेश किया ये प्रस्ताव…

केंद्र सरकार ने प्रस्ताव में मंदिर के लिए 200 वर्ग गज की मांग की थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने बढ़ाकर 400 वर्ग गज कर दिया है, सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर तोड़े जाने के बाद विरोध और हंगामा करने के आरोप में गिरफ्तार लोगों को निजी मुचलके और बांड पर रिहा करने का आदेश भी दे दिया है।

यह भी पढ़ें.  इस कांग्रेसी नेता का बड़ा बयान- कमलेश तिवारी के बाद हो सकती है मेरी हत्या

इसलिए हुई थी गिरफ्तारी…

यह भी पढ़ें. ओह तेरी! पत्नी कहेगी पति से, बिस्तर पर ‘ना बाबा ना’

दिल्ली के तुगलकाबाद इलाके में रविदास मंदिर तोड़े जाने के खिलाफ दलित समाज के लोगों ने रामलीला मैदान में बड़ा प्रदर्शन किया था। बता दें कि आंदोलन के बाद इलाके में हिंसा और आगजनी की घटना भी हुई थी।

यह भी पढ़ें. कांग्रेस के इस दिग्गज नेता ने कहा- भाजपा कॉमेडी सर्कस न चलाएं

बताते चलें कि भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर समेत 96 लोगों को गिरफ्तार किया गया था, गिरफ्तार किए गए चंद्रशेखर का दावा था कि उन्हें साजिश में फंसाया गया। इसके साथ ही पुलिस ने दावा किया कि हिंसा में लगभग 90 पुलिसकर्मी घायल हुए थे।

यह भी पढ़ें: लड़कियों को पसंद ये! बताती नहीं पर हमेशा ही खोजती हैं ये चीजें

यह है पूरा मामला…

यह भी पढ़ें.  अरे ऐसा भी क्या! बाथरूम में लड़कियां सोचती हैं ये सब

दिल्ली के तुगलकाबाद के जहांपनाह जंगल में स्थित संत रविदास के मंदिर को दिल्ली विकास प्राधिकरण ने 10 अगस्त को तोड़ दिया था, दिल्ली समेत आस-पास के दलित समुदाय के लोगों ने इसका कड़ा विरोध किया था।

यह भी पढ़ें. बेस्ट फ्रेंड बनेगी गर्लफ्रेंड! आज ही आजमाइये ये टिप्स

इससे पहले 9 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की थी कि गुरु रविदास जयंती समारोह समिति ने जंगल में स्थित इस स्थान को खाली न कर कोर्ट के आदेश की अवहेलना की है।

यह भी पढ़ें.  झुमका गिरा रे…. सुलझेगी कड़ी या बन जायेगी पहेली?