relationship tips

शिशु जब डाइरेक्शन बदलकर मां का दूध पीता है तो एक बार सिर का बाया हिस्सा और एक बार सिर का दाया हिस्सा मां की गोद से चिपकता है।

मोटी लड़कियां मेहमानों का अच्छी तरह से आदर सम्मान करती है। कभी भी मेहमानों को शिकायत का मौका नही देती। क्योंकि मोटी लड़कियां मेहमानो को भगवान की तरह मानती है। 

जेनोफोबिया स्थिति में किस करना और गले लगाने जैसी स्थिति एक्टिविटी को खूब पसंद किया जाता हैं। लकिन यौन संबंध बनाने में या ज्यादा फिजिकल होने में डर लगता हैं।

आजकल सोशल मीडिया के शौक ने सभी को मोबाइल फोन से चिपकने का एक विकल्प दे दिया है। जिस कारण ज्यादातर लोग दिन में ज्यादा से ज्यादा समय अपने फोन या लैपटॉप के साथ बिताना पसंद करते हैं।

विवाहित जीवन में कपल का सबसे जरुरी एक दूसरे पर भरोसा करना होता है। आपको बता दें कि पति पत्नी की यह नींव भरोसे और विश्वास पर टिकी रहती है।

किसी भी झगड़े या नाराजगी को खत्म करने के लिए यह तरीका सबसे अच्छा माना गया हैं कि आप अपनी गलती मानते हुए सॉरी कहे और ये कहे की आपका ऐसा कोई इरादा नहीं था। वैसे भी अगर माफ़ी दिल से मांगी गई है तो किसी भी इंसान का गुस्सा शांत किया जा सकता है। पुरे मन से ऐसा करने से आपका पार्टनर खुश हो सकता हैं।

हाइपर ऐक्टिव यानी अत्यधिक सक्रिय बच्चों का घर में होना किसी छोटे तूफ़ान से निपटने से कम नहीं होता, क्योंकि वे काफ़ी चुलबुले होते हैं। उनका दिमाग़ स्थिर नहीं होता और न ही वे एक जगह पर कुछ मिनट से ज़्यादा नहीं टिक पाते हैं। ऐसे में माँ बहुत परेशान हो जाती है

लड़की की जिंदगी में शादी के बाद काफी बदलाव आते हैं। शादी होने के बाद लड़की को न घर मिलता है बल्कि उनकी कई आदतें भी बदल जाती हैं। जिस घर में वो अभी तक रही थीं अचानक से वो घर पराया हो जाता है। वहीं दूसरी तरफ ससुराल में सबकुछ नया होता है।

  कोविड-19 के इस दौर में  लोग बमुश्किल जिंदगी जी रहे हैं, लेकिन दौरान कई बच्चों का भी जन्म हो रहा है। कई जिंदगियां खिलखिला रही हैं, और कई महिलाएं नन्हे मेहमान को इस दुनिया में लाने वाली है। ऐसे में उनके मन में यह है कि इस महामारी के समय अपने शिशु को स्वस्थ कैसे रखें? ऐसे कुछ टिप्स  है जिन्हें अपने नवजात का ख्याल रखने में मदद मिलेगी...

किसी भी रिश्ते का चलना आपसी समझदारी और प्यार-विश्वास पर रहता है। चाहे कोई भी रिश्ता होमें अच्छे और बुरे हर तरह के अनुभव देता है। कई बार बात नहीं बन पाती तो संबंध टूट भी जाते हैं। जो कष्टदायी होते हैं।