lockdown

महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने राज्य में लॉकडाउन की अवधि फिर बढ़ा दिया है। सरकार ने लॉकडाउन को बढ़ाकर 31 दिसंबर मध्यरात्रि तक कर दिया है। उद्धव सरकार ने कोरोना पॉजिटिव मरीजों की बढ़ती संख्या को देखकर फैसला लिया है।

कोरोना महामारी एक बार फिर अपने पैर पसार रहा है। इसकी रफ़्तार भारत समेत पूरे देश में दो गुना तेज़ी से बढ़ रही हैं। जिसके चलते लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए एक बार फिर से लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया जा रहा है।

देशभर में महामारी से बिगड़ते हालातों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी आज कुछ राज्य के मुख्यमंत्रियों से बात कर रहे हैं। ऐसे में कई राज्यों में एक बार फिर प्रतिबंध लगाने की चर्चाएं तेज हो गई हैं।

केंद्र सरकार भी मंगलवार को कोरोनावायरस बचाव उपायों को लेकर मीटिंग करने जा रही है। कुरौना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों के मद्देनजर कई राज्यों ने रात्रिकालीन कर्फ्यू के विकल्प पर अमल शुरू कर दिया है।

देश में एक बार फिर कोरोना मरीजों की तादाद बढ़ने लगी है। वही दिल्ली कोरोना संक्रमण की तीसरी स्टेज से गुज़र रही हैं। कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए एक बार फिर लॉकडाउन की चर्चा तेज़ हो गई है।

लॉकडाउन के चलते मार्च माह में ही इस पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई थी। मंदिर कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार अभी बाबा की रसोई निर्माणधीन है।

अजित पवार ने कहा कि हम अगले 2-3 दिन तक स्थिति की समीक्षा करेंगे और उसके बाद आगे लॉकडाउन लगाने के बारे में फैसला करेंगे। पवार ने कहा कि दिवाली के समय, बहुत भीड़ थी ऐसा लग रहा था जैसे कि कोरोना भारी भीड़ से अपने आप मर जाएगा।

लॉकडाउन की वजह से रेहड़ी-पटरी वालों को बल देने के लिए केंद्र सरकार ने स्‍वनिधि योजना की शुरुआत की है। कोरोना संकट के बीच लॉन्च पीएम स्वनिधि योजना का लाभ बड़े पैमाने पर लोग उठा रहे हैं।

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए माना जा रहा था कि राज्य में दोबारा लॉकडाउन लगाया जा सकता है, लेकिन स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने स्पष्ट किया कि दिल्ली में दोबारा लॉकडाउन बिल्कुल नहीं लगेगा। 

राजधानी दिल्ली में एक बार फिर कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। दिल्ली में बाजार को एक बार फिर बंद किया जा सकता है। बीते कुछ दिनों से लगातार कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं।