‘कार प्रचार’ के माध्यम से ‘विश्व गौरैया और तितली सप्ताह’ पर फैलायी जागरूकता

‘विश्व गौरैया और तितली सप्ताह 2019’ के मौके पर शुक्रवार को शहर भर में प्रोफेसर अमिता कनौजिया की अगुवाई में इंस्टिट्यूट ऑफ वाइल्डलाइफ साइंसेज, लखनऊ विश्वविद्यालय और बायोडायवर्सिटी एंड वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन लैब के बच्चों के माध्यम से जागरूकता अभियान चलाया गया और लोगों को सर्टिफिकेट बांटे गए।

लखनऊ: ‘विश्व गौरैया और तितली सप्ताह 2019’ के मौके पर शुक्रवार को शहर भर में प्रोफेसर अमिता कनौजिया की अगुवाई में इंस्टिट्यूट ऑफ वाइल्डलाइफ साइंसेज, लखनऊ विश्वविद्यालय और बायोडायवर्सिटी एंड वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन लैब के बच्चों के माध्यम से जागरूकता अभियान चलाया गया और लोगों को सर्टिफिकेट बांटे गए।

इस मौके पर प्रोफेसर की अगुवाई में बच्चों ने शहर भर के अलग अलग स्कूलों, मोहल्ले, और राह चलते हुए लोगों को ‘विश्व गौरैया और तितली सप्ताह’ के महत्व को बताया।

जिसमें ‘कार प्रचार’ के माध्यम से आशियाना, आलमबाग, ऐशबाग, गोमतीनगर के 1090 चौराहे और बिजली पासी किला के इलाक़ों की तरफ जाकर वहां के लोगों को जागरूक किया वहीं शहर के कुछ नामी- गिरामी स्कूलों में ‘विश्व गौरैया और तितली सप्ताह’ के बारे में बताकर वहाँ के बच्चों को सर्टिफिकेट प्रदान किया।

इस पूरे कार्यक्रम में प्रोफेसर अमिता कनौजिया का साथ उनके रिसर्च स्कॉलर आदेश कुमार, अंकित सिन्हा, रूबी यादव और दीप्ति वर्मा थी।
वहीं 30 लोगों की वालिंटियर टीम में रुचिरा निगम, अनुज त्रिपाठी, आमिर रहमान, संतुल कुमार, राकिया उमर, अर्शिता जैन, वर्षा रानी और मयंक सिंह सहित इत्यादि लोगों ने शहरी और गांव वाले इलाकों में जाकर प्रचार प्रसार किया और 1000 लोगों को सर्टिफिकेट दिए।

ये भी पढ़ें…भाजपा युवा मोर्चा लखनऊ महानगर की टीम घोषित