मुख्यमंत्री योगी के इम्तिहान में फेल हो गए यूपी के इन 24 जिलों के डीएम

विशेष सचिवों ने बहराइच, बलरामपुर, प्रयागराज, बाँदा, झाँसी, ललितपुर, गाजीपुर, फतेहपुर समेत 24 जिलों के जिलाधिकारी जनसुनवाई में अनुपस्थिति की यह रिपोर्ट अब मुख्य सचिव अनूप चन्द्र पांडेय को दी गई।

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कई बार चेतावनी दिए जाने के बाद भी प्रदेश की ब्यूरोक्रेसी अपने कामकाज के तरीकों में बदलाव नहीं कर पा रही है।

योगी आदित्यनाथ पहले भी जिला अधिकारी को चेता चुके है उसके बाद भी गुरुवार को उन्होंने जनसुनवाई की हाजिरी लगवाए, तो 24 जिलाधिकारी अनुपस्थित रहे।

उन सभी जिलाधिकारियों को कारण बताओ की जल्द नोटिस जारी किये जाने की तयारी की जा रही है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों को जिला मुख्यालयों पर प्रतिदिन सुबह 9 बजे से 11 बजे तक जनसुनवाई के निर्देश दिए थे।

गुरुवार को मुख्यसचिव की टीम ने जान सभी जिलों के जिलाधिकारियों के बेसिक फोन पर हाजिरी ली जाने लगी तो 75 जिलों में से 24 जिलों के जिलाधिकारी जनसुनवाई के दौरान अनुपस्थित रहे।

ये भी पढ़ें…Mee Too की कतार में अब शर्लिन भी आई, इस डायरेक्टर पर लगाये ये गंभीर आरोप

मुख्यसचिव ने इनकी हाजरी के सचिवालय के 9 विशेष सचिवों को लगाया गया है, जिनको दो-दो मंडलो की जिम्मेदारी दी गयी है।

विशेष सचिवों ने बहराइच, बलरामपुर, प्रयागराज, बाँदा, झाँसी, ललितपुर, गाजीपुर, फतेहपुर समेत 24 जिलों के जिलाधिकारी जनसुनवाई में अनुपस्थिति की यह रिपोर्ट अब मुख्य सचिव अनूप चन्द्र पांडेय को दी गई।

मुख्यसचिव ने रिपोर्ट आते ही सभी को कारण बताओ की नोटिस जारी करने का निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद मुख्यसचिव ने इन पर निगरानी के लिए एक टीम बनाकर प्रतिदिन उनकी हाजिरी ली जा रही थी।

लेकिन कई बार भाजपा के नेताओं द्वारा बार-बार शिकायत मिल रही थी कि जनसुनवाई के दौरान उपस्थित नहीं रहते है। जनसुनवाई की प्रतिदिन की सूचना खुद मुख्यसचिव से लेते है। जिससे शासन में हड़कंप मची है।

ये भी पढ़ें…पीएम मोदी की तारीफ में ये क्या बोल गये बिहार के राज्यपाल फागु चौहान?