पितृ पक्ष: यूपी के इस जिले में सड़क पर हो रहा श्राद्ध कर्म, वजह हैरान करने वाली है…

बनारस में बाढ़ का सितम लगातार जारी है। गंगा में आया उफान शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। हजारों लोग आफत के बीच जिंदगी गुजार रहे हैं। बाढ़ के चलते पितृ पक्ष में श्राद्ध करने वाले लोगों को भी भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

Published by Aditya Mishra Published: September 20, 2019 | 5:04 pm
Modified: September 20, 2019 | 5:07 pm

वाराणसी: बनारस में बाढ़ का सितम लगातार जारी है। गंगा में आया उफान शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। हजारों लोग आफत के बीच जिंदगी गुजार रहे हैं। बाढ़ के चलते पितृ पक्ष में श्राद्ध करने वाले लोगों को भी भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लोग सड़कों पर श्राद्ध करने पर मजबूर हैं।

ये भी पढ़ें…यहां पितृपक्ष में लगता है भूतों का मेला, आत्माओं को बांधने के लिए पेड़ में ठोके जाते है कील

रोड पर आए पंडे

काशी में गंगा का गुस्सा ऐसा है कि अब पंडे भी सड़क आ गए हैं। अब सड़क पर ही पूजा पाठ और श्राद्ध कर्म चल रहा है। घाटों पर छतरी के नीचे धुनी रमाने वाले पंडों की परेशानी, गंगा की बढ़ती लहरों के साथ बढ़ रही हैं।

दरअसल प्रितपक्ष में काशी में पिंडदान का महात्यम हैं। लिहाजा हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु गंगा किनारे पिंडदान के लिए यहां पहुंचते हैं। लेकिन गंगा में आये बाढ़ के चलते श्रद्धलुओं की परेशानी बढ़ गई है। श्रद्धालु अब सड़क किनारे की पूजा पाठ और श्राद्ध कर्म कर रहे हैं।

पीक सीजन माना जाता है पितृ पक्ष

आमदनी के लिहाज से प्रितपक्ष पंडों के लिए पीक सीजन माना जाता है। लेकिन सैलाब से सितम ने अब रोजी रोटी पर ग्रहण लगा दिया है। अब हर किसी को इंतजार, उस पल का है जब गंगा का गुस्सा शांत होगा। फिलहाल गंगा का जलस्तर अभी भी खतरे के निशान से ऊपर है। जिसके चलते गंगा का पानी शहर में दस्तक दे रहा है।

ये भी पढ़ें…पितृपक्ष: श्रीमद्भागवत का इस दौरान करें पाठ, घर में बनाएं रोज खीर का प्रसाद