DEA सेक्रेटरी: 2000 रुपए के नोट हो रहे कम सर्कुलेट, 500 के नोट की बढ़ाई गई प्रिंटिंग

नोटबंदी के मुद्दे पर सरकार की ओर से उठाए जा रहे कदम की जानकारी देते हुए आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने गुरुवार को कहा कि यह पहला मौका है जब नोट देश में डिजाइन किए गए हैं।

Published by tiwarishalini Published: December 15, 2016 | 8:13 pm
Modified: December 15, 2016 | 8:17 pm

नई दिल्ली: नोटबंदी के मुद्दे पर सरकार की ओर से उठाए जा रहे कदम की जानकारी देते हुए इकोनॉमिक्स अफेयर्स सेक्रेटरी (आर्थिक मामलों के सचिव) शक्तिकांत दास ने गुरुवार को कहा कि यह पहला मौका है जब नोट देश में डिजाइन किए गए हैं। इससे ये ज्यादा सेफ हैं और इन्हें कॉपी करना आसान नहीं है। उन्होंने बताया कि 2000 रुपए के नोट पहले जारी करने का उद्देश्य बाजार में कैश की आपूर्ति बढ़ाना था और अब ध्यान 500 रुपए के नोट छापने पर है। शक्तिकांत दास ने कहा कि लोग 2000 रुपए के नोट को सर्कुलेट कम कर रहे हैं। इसकी वजह से हमने अब 500 के नोट का प्रोडक्शन बढ़ा दिया है।

यह भी पढ़ें … सरकार ने लॉन्च की इन्सेंटिव स्कीम, 15,000 ग्राहकों को रोजाना मिलेंगे rs.1000 इनाम

तेजी से छ्प रहे 500 रुपए के नए नोट
-शक्तिकांत दास ने बताया कि सरकार और आरबीआई लगातार लोगों को कैश की समस्या से निजात दिलाने को लेकर प्रयास कर रही है।
-500 रुपए के नए नोट तेजी से छापे जा रहे हैं।
-इन नोटों की सप्लाई बढ़ाई गई है।
-ग्रामीण इलाकों में कैश पहुंचाने की कोशिशें तेज की गई हैं।
-नोट पहुंचाने के लिए एयरप्लेन का इस्तेमाल किया जा रहा है।
-जिससे लोगों की समस्या कम की जा सके।
-को-ऑपरेटिव बैंकों में कैश पहुंचाने का काम तेजी से किया जा रहा है।
-50 और 20 रुपए के नोटों की छपाई भी तेजी से की जा रही है।

यह भी पढ़ें … बाथरूम में बना था सीक्रेट चैंबर, IT ने छापा मार जब्त किया ब्लैक मनी का जखीरा

और क्या कहा शक्तिकांत दास ने ?
-शक्तिकांत ने बताया कि नोटबंदी के बाद देशभर में नए नोटों की धांधली को लेकर छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है।
-इस दौरान जब्त किए गए नए नोटों को फिर से बाजार में भेजने का विचार किया जा रहा है।
-बरामद नोटों को लेकर फिगर अभी पुख्ता नहीं है।
-सरकार ने रिजर्व बैंक और बैंकों से फिगर क्राॅस करने को कहा है।
-लोकल लेवल पर जांच एजेंसियां को-ऑर्डिनेट कर रही हैं।
-2 लाख से ज्यादा एटीएम री-कैलिबरेट कर दिए गए हैं। जिससे अब कैश फ्लो बढ़ रहा है।
-शक्तिकांत दास ने कहा कि अमेरिका में फेडरल रिजर्व की दरें बढ़ाने का भारत में क्या असर होगा ये बताना अभी मुश्किल है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App