आखिर कौन है खजांची, लुटाते हैं उसपर अखिलेश प्यार, करते हैं उससे मोदी पर वार

आज ही के दिन 3 साल पहले 8 नवंबर 2016, को पीएम नरेंद्र मोदी ने रात 8 बजे ऐलान नोटबंदी लागू किया था। आज नोटबंदी को तीन साल हो गए। कुछ दिनों तक लोग नोटबंदी से परेशान रहें। बैंकों के चक्कर लगाते दिखें। नोटबंदी के दौरान पैसे के लिए बैंकों के बाहर लंबी लाइने लगी रहती।

जयपुर: आज ही के दिन 3 साल पहले 8 नवंबर 2016, को पीएम नरेंद्र मोदी ने रात 8 बजे ऐलान नोटबंदी लागू किया था। आज नोटबंदी को तीन साल हो गए। कुछ दिनों तक लोग नोटबंदी से परेशान रहें। बैंकों के चक्कर लगाते दिखें। नोटबंदी के दौरान पैसे के लिए बैंकों के बाहर लंबी लाइने लगी रहती।

 यह पढ़ें…नोटबंदी क्यों हुई, कब-कब हुई और इसकी जरूरत क्यों आई? यहां जानें सबकुछ

खजांची का नामकरण

नोटबंदी की इस कतार में उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात की एक महिला ने बैंक की लाइन में एक बच्चे को जन्म दिया। इस बच्चे का जन्म 2 दिसंबर 2016 को हुआ। इस बच्चे का नामकरण यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने खजांची रखकर किया। पिछले साल 2018 में सपा नेता अखिलेश यादव ने खजांची के दूसरे जन्मदिन पर घर गिफ्ट किया। इस बार लखनऊ में सपा कार्यालय में खजांची के जन्मदिन का कार्यक्रम है जिसमें अखिलेश यादव शामिल होंगे।

 

 यह पढ़ें…LIVE: महाराष्ट्र में आर-पार, किसकी बनेगी सरकार? यहां जानें आज का पूरा घटनाक्रम

 

सपा की राजनीति हथकंडा खजांंची

खजांची नोटबंदी के विरोध में हुए धरना-प्रदर्शनों और राजनीति का ब्रांड एंबेस्डर बन गया था। विधानसभा चुनाव में हर मौके पर खजांची के नाम पर अखिलेश यादव ने मोदी सरकार को घेरा था। अखिलेश यादव ने खजांची के दूसरे जन्मदिन पर उसे घर दिया था। बाद में उसके पैतृक गांव सरदार पुरवा भी पहुंचे थे और उपहार में दिए आवास का निरीक्षण किया। इस घर के बारे में खास बात यह है कि लोहे और कंक्रीट से बना यह आवास गांव में नहीं बना बल्कि दिल्ली से लाकर यहां फिट किया गया।यह मकान फिलहाल खजांची की मां सर्वेशा देवी के नाम है। खजांची के बालिग होने पर इसका मालिकाना हक उसे मिलेगा। खजांची की मां दिव्यांग हैं। खजांची के पिता जसमेर नाथ की मृत्यु उसके जन्म से पांच माह पूर्व हो गई थी।

 

 यह पढ़ें…सड़कों पर उतरे हजारों लोग: कार्रवाई में कई लोग घायल, 1 की हुई मौत

 

 

अखिलेश यादव  ने लिया  खजांची के गांव को गोद

खजांची का पैतृक गांव सरदार पुरवा है लेकिन खजांची अपनी मां के साथ ननिहाल में रहता है। अखिलेश यादव खजांची के माध्यम से चुनावी सभा या किसी भी सार्वजनिक सभा में मोदी सरकार की नीतियों पर तंज कसते है। कुछ वक्त पहले अखिलेश ने खजांची के गांव को भी गोद ले लिया था।

 यह पढ़ें…लखनऊ मेल के एसी कोच में लगी आग, यात्रियों ने ऐसे बचाई जान

 

समय समय पर राजनिति रोटी सेकने के काम खजांची

लोकसभा चुनाव के दौरान कन्नौज में सपा प्रत्याशी डिंपल यादव के रोड शो की एक फोटो  मे अखिलेश यादव ने ट्वीट की थी। तस्वीर में डिंपल खजांची को गोद में ली हुई थीं. अखिलेश ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि विकास पूछ रहा है कि इस बच्चे को पहचाना क्या? यह वही खजांची है, जो नोटबंदी की लाइन में पैदा हुआ था