कोरोना वायरस

इसी तरह बुधवार को भी अडाणी फाउंडेशन की ओर से उत्तर प्रदेश पुलिस को किट सौंपी गई है। अडाणी समूह के क़ार्पोरेट अफ़ेयर्स के नार्थ इंडिया हेड आनंद सिंह विशेन ने प्रमुख सचिव सूक्षम एवं लघु उद्योग नवनीत सहगल की मौजूदगी में डीजीपी हितेश चन्द्र अवस्थी को 3000 पीपीई किट सौंपी हैं।

पहली बार एक अध्ययन में खुलासा किया गया है कि कोरोना पीड़ितों के नजदीकी संपर्क में आने वाले किन लोगों को इस वायरस का सबसे ज्यादा खतरा होता है। अध्ययन के मुताबिक नजदीकी संपर्क में आने वाले सभी लोगों को संक्रमण की आशंका नहीं होती।

सवाल ये है कि इन लोगों के चेहरे कहां हैं, ये छुपे क्यों हैं, किस बात का डर है इन्हें, सच बात तो ये है आजकल कोविड पॉजिटिव होना किसी जुर्म से कम नहीं है। लोग सोचते हैं कि अगर आप कोविड पॉजिटिव हैं तो आप एक मुजरिम हैं। ये गलत है। ये सोच बिल्कुल ही गलत है।

ये सब राज्यों से कोरोना संबंधी डेटा एकत्र करके उनका विश्लेषण करते हैं। इससे ट्रेंड की पहचान होती है और पूर्वानुमान लगाने में मदद मिलती है। इसी आधार पर राज्यों को उचित कार्रवाई करने के बारे में चेताया जाता है।

दुनिया भर में कोरोना के असर को लेकर तरह-तरह के अध्ययन किए जा रहे हैं और इनमें अलग-अलग बातें निकलकर सामने आ रही हैं। इन अध्ययनों में पता चला है कि दुनिया भर में अवसाद और घबराहट के मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

15 जून तक अगर हम नियंत्रण रख सकते हैं, तो हमें बीमारी से काफी कुछ सीख लिया होगा। हमें तब तक सावधानी बरतनी होगी और निरीक्षण करना होगा। हम रोज़ सीख रहे हैं ... और हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की उम्मीद करते हैं। हमारा एकमात्र अनुरोध है कि हम तक मरीज जल्द पहुंचें। ”

नौकरशाहों का मानना है कि अधिकांश अमीर लोगों के पास अभी भी शानदार सुविधाएं हैं। इसके अलावा धनी लोग कोरोना के इस अस्थाई झटके से उबरने के लिए अपनी पूंजी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

बीड़ी-सिगरेट ही नहीं बल्कि अन्य तम्बाकू उत्पादों के साथ ही हुक्का, सिगार, ई-सिगरेट भी कोरोना वायरस के संक्रमण को फैला सकते हैं, इसलिए अपने साथ ही अपनों की सुरक्षा के लिए इससे दूर ही रहना मुनासिब है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आज मन की बात में कहा है यह वह समय है जब हर देशवासी को यह सोचना चाहिए कि वह कोरोना की जंग को जीतने के लिए चल रहे इस महायज्ञ में कितना और क्या योगदान कर सकता है।

उन्होंने आश्वस्त करते हुए कहा कि हम किसी भी परिस्थिति के लिए तैयार हैं और आने वाले समय में हम सभी रोगियों को स्वस्थ रखने और उन्हे पूरी तरह से फिट बनाने के लिए उचित स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने की स्थिति में हैं।