7 लोक कल्याण मार्ग: जहां रहते हैं भारत के प्रधानमंत्री, मिलती हैं ये सुविधाएं

प्रधानमंत्री आवास में कई सुविधाएं हैं। यहां एक पावर स्टेशन है। वहीं अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डॉक्टर और नर्स 24 घंटे ड्यूटी पर रहते हैं।

लखनऊ: हर कोई जानना चाहता है कि भारत के प्रधानमंत्री के सरकारी आवास और मुख्य कार्यालय कैसा होगा? तो आज हम आपको प्रधानमंत्री आवास के आश्चर्यजनक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं।

भारत के प्रधानमंत्री का सरकारी आवास राजधानी दिल्‍ली के लुटियंस जोन के लोक जननायक मार्ग पर स्थित 7 नंबर बंगला है। हाल में इसका नाम रेस कोर्स रो़ड से लोक जननायक मार्ग किया गया है। वर्तमान में इसमें भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रह रहे हैं। वह साल 2014 से यहीं पर रह रहे हैं। प्रधानमंत्री आवास का आधिकारिक नाम ‘पंचवटी’ है। इसे 5 बंगलों को मिलाकर बनाया गया है।

ऐसा है प्रधानमंत्री आवास

यह आवास 12 एकड़ में बनाया गया है। इसका निर्माण साल 1980 में किया गया था। इस आवास में एक नहीं 5 बंगले हैं, जिसमें प्रधानमंत्री कार्यालय– सह– आवास क्षेत्र और सुरक्षा प्रतिष्ठान– इसमें से एक विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) और दूसरा गेस्ट हाउस शामिल है। बता दें कि सभी को मिलाकर इसे 7 लोक कल्याण मार्ग कहा जाता है।

ये भी पढ़ें— बिजली उत्पादक कंपनियों का मार्च में 63 प्रतिशत बढ़ा वितरण कंपनियों पर बकाया

वर्तमान में 5 लोक कल्याण मार्ग हमारे प्रधानमंत्री का निजी आवास है और 7 लोक कल्याण मार्ग उनका कार्यालय है। जिसके बाद बंगला 9 में प्रधानमंत्री को सुरक्षा प्रदान करने वाले स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) के लोग रहते हैं। वहीं बंगला नंबर 3 गेस्टहाउस है, जहां अतिथि रुकते हैं।

गौरतलब है कि बंगले में टेनिस कोर्ट भी है। बंगला नंबर 1 में प्रधानमंत्री की सेवा के लिए बनाया गया हेलिपैड है। जिसका इस्तेमाल साल 2003 से किया जा रहा है। 7 लोक कल्याण मार्ग में बंगले बड़े बंगले नहीं हैं। यहां दो बेडरूम, एक एक्स्ट्रा कमरा, एक डाइनिंग रूम और लिविंग रूम है, जिसमें कम से कम 30 लोग बैठ सकते हैं।

शानदार बगीचे की ये है खासियत


4 प्रधानमंत्री आवास का बगीचा काफी शानदार है। यह काफी बड़ा, साफ–सुथरा और सुंदर है। यह बगीचा इतना बड़ा है कि इसमें एक घोड़ा आराम से दौड़ सकता है। यहां गुलमोहर, सेमल और अर्जुन के पेड़ लगाए गए हैं। वहीं यहां मोर समेत कई पक्षियाें का बसेरा है। बता दें, प्रधानमंत्री आवास की देख-रेख कड़ी निगरानी में की जाती है। 7 लोक कल्याण मार्ग में केवल एक ही प्रवेश द्वार है और इस द्वार की पहरेदारी भी एसपीजी करती है। इस बंगले की खास बात ये है कि करीब 2 किमी लंबी भूमिगत सुरंग भी है जो इसे सफदरजंग हवाईअड्डे से जोड़ती है।

ऐसा है कार्यालय

कार्यस्थल पर दो छोटे कमरे बने हैं। जिसमें पीएम के दो निजी सचिव रहते हैं। वहीं आगंतुक रूम दाईं ओर है। जिसके बाद आगे गेस्ट हाउस बना हुआ है। वहीं बड़ी बैठकों के लिए एक बड़ा रूम बनाया गया है। पीछे की साइड डाईनिंग रूम है जहां दोपहर के खाने का आयोजन किया जाता है।

ये भी पढ़ें— कर्नाटक: BJP नेता से मिले कांग्रेस के 2 विधायक, राजनीतिक अटकलें तेज

ऐसे मिलती है प्रधानमंत्री आवास में एंट्री

प्रधानमंत्री आवास में एंट्री 9, लोक कल्‍याण मार्ग से मिलती है। पहले कार पार्किंग में लगाई जाती है, फिर उस व्यक्ति को रिसेप्शन में भेजा जाता है। फिर सुरक्षा जांच की जाती है। जिसके बाद व्यक्ति 7, 5, 3 और 1 लोक कल्याण मार्ग में एंट्री लेता है।

पीएम से मिलने के पहले होती है कड़ी जांच

बता दें कि पीएम के आवास में पहुंचने की सुरक्षा जांच इतनी सख्त होती है कि अगर उनका कोई परिवार का सदस्य भी आता है तो उन्हें भी इसी जांच से गुजरना पड़ता है। किसी भी व्यक्ति के प्रधानमंत्री आवास में एंट्री लेने से पहले सचिवों की ओर से मिलने वालों की लिस्ट तैयार की जाती हैै। जिन व्यक्तियों का नाम लिस्ट में होगा सिर्फ वहीं मिल सकते हैं। इसी के साथ जो व्यक्ति प्रधानमंत्री से मिलने जा रहे हैं उनके पास एक पहचान पत्र होना जरूरी है।

ये भी पढ़ें— दुनियाभर से मोदी को उनकी बेहतरीन वापसी के लिए बधाइयों का सिलसिला जारी

प्रधानमंत्री आवास में मिलती है ये सुविधाएं

प्रधानमंत्री आवास में कई सुविधाएं हैं। यहां एक पावर स्टेशन है। वहीं अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डॉक्टर और नर्स 24 घंटे ड्यूटी पर रहते हैं। आवास में एक एंबुलेंस और BMW कारें रहती है। ये सारी सुविधाएं अटल बिहारी वाजपेयी कार्यकाल के दौरान दिए गए आदेश के बाद दी गईं थीं।