आर्मी हॉस्पिटल में लेप्रोस्कोपी तकनीक से पहली बार लीवर का सफल ऑपरेशन

ऑपरेशन के बाद स्वस्थ महिला और ट्यूमर (इनसेट में )

लखनऊ: सेना में पहली बार अमाशय में बिना चीरा लगाए दूरबीन पद्धति से लीवर का सफल ऑपरेशन किया गया है। सेना के मध्य कमान के मुख्यालय लखनऊ के हॉस्पिटल में 51 साल की एक महिला का ऑपरेशन डॉक्टर ने किया।

क्या हुआ था मरीज को ?
-महिला को छह माह से अमाशय में दर्द था।
-जांच में पता चला कि महिला के लीवर में ट्यूमर है।
-आॅपरेशन और ट्यूमर से प्रभावित लीवर को निकालना जरूरी था।
-लीवर ऑपरेशन में सबसे बड़ा जोखिम खून के ज्यादा बहने का होता है।

उत्तर भारत में दूरबीन पद्धति से पहली सर्जरी
-मध्य कमान अस्पताल के सेनानायक मेजर जनरल ए.के. हुड्डा ने बताया कि इस तरह का ऑपरेशन उत्तर भारत में पहली बार किया गया है।
-इसमें विशिष्ट एनर्जी डिवाइसों और स्टेपलर्स का इस्तेमाल किया गया।
-सर्जरी में लीवर का प्रभावित हिस्सा भी हटाया गया।
-मरीज के स्वास्थ्य में तेजी से सुधार हुआ और उसे तीसरे दिन ही अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

मेजर जनरल ने बताया कि शरीर के नाजुक अंग से इतना बड़ा ट्यूमर निकालकर सेना के डॉक्टरों ने अपनी चिकित्सकीय दक्षता का उदाहरण पेश किया है।