प्रभु के बजट का BJP ने किया स्‍वागत, विरोधियों ने बताया निराशाजनक

Published by Admin Published: February 25, 2016 | 9:23 pm
Modified: August 10, 2016 | 2:26 am
लखनऊ: एनडीए सरकार ने गुरुवार को अपना तीसरा और रेल मंत्री सुरेश प्रभु का दूसरा रेल बजट पेश किया। केन्‍द्र सरकार जहां एक तरफ इस बजट का स्‍वागत कर रही है वहीं विरोधी पार्टियों ने इसका विरोध किया है। आइए जानते हैं कि प्रभु के इस बजट पर विरोधियों ने क्‍या कहा।बजट पर खरे नहीं उतरे प्रभु : सपा 
 समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा है कि रेलमंत्री सुरेश प्रभु के रेल बजट से जो उम्मीदें थी, उस पर वे खरे नहीं उतरे। किराया पहले ही बढ़ाया जा चुका था। मालभाड़ा भी बाद में बढ़ जाएगा। यात्रियों को सुविधाएं देने के नाम पर वादे तो किए गए हैं पर हकीकत में उन्हें उतारना आसान नही होगा। रेलवे के अपने संसाधनों का टोटा है, यह बात रेलमंत्री ने मान ली है क्योंकि वे अपने सपने पूरे करने के लिए पूरी तरह पीपीपी माॅडल पर निर्भर हो गए हैं।
रेल बजट में कुछ भी नया नहीं : कांग्रेस 
रेल मंत्री द्वारा संसद में पेश किए गए रेल बजट पर यूपी कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष सत्यदेव त्रिपाठी ने कहा कि इस रेल बजट में कुछ भी नया नहीं है। यह बजट मात्र पुराने बजटों की नकल है। रेल बजट देश की जनता के लिए निराशाजनक है।
सौ से अधिक पेंट्री एक ही कांट्रेक्टर को 
 सत्यदेव त्रिपाठी ने कहा कि यात्रियों को शुद्ध और ताजा भोजन देने का जो वादा किया गया है उसकी सही मानीटरिंग नहीं हो पायेगी क्योंकि सौ से अधिक पेंट्री को एक ही कांट्रेक्टर को प्रदान किया गया है, जिसके चलते इसके फलीभूत होने की संभावना नगण्य है।
पटरियों के नवीनीकरण के लिए कहां से आएगा धन 
 त्रिपाठी ने कहा कि पैसेंजर गाड़ियों की 50 से 80 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार करने के लिए पटरियों का नवीकरण करना पड़ेगा, इसके लिए धन कहां से आयेगा, इसका कोई जिक्र नहीं किया गया है, इसलिए इसके भी पूरा होने की संभावना नहीं है। श्री त्रिपाठी ने कहा कि पिछले रेल बजट में जो घोषणाएं की गई थीं। उनके क्रियान्वयन की स्थिति एवं रोजगार सृजन की स्थिति को रेल मंत्री को स्पष्ट करना चाहिए।
बजट में पुरानी रटी रटाई बातों का संकलन : लोकदल 
राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान ने रेल बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यूपी की दृष्टि से रेल बजट निराशाजनक है यह बजट पुरानी रटी रटाई बातों को संकलन है और जनता को धोखा देने वाले हैं क्योंकि वर्तमान बजट में प्रदेश के हिस्से में न तो कोई नई रेलगाड़ी आई और न ही पहले से चल रही साप्ताहिक गाडियों का कोई फेरा बढ़ाया गया। जिससे जनता की उम्मीदों पर एक बार फिर पानी फिर गया।
भाजपा ने किया स्वागत 
भारतीय जनता पार्टी ने केंद्रीय रेल बजट का स्वागत किया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा. लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने रेल बजट का स्वागत करते हुए ऐतिहासिक बताया। बजट की मुख्य बात ‘‘चलो मिलकर कुछ नया करे,’’ बजट की दिशा है। डा बाजपेयी ने बजट को सूबे की रीढ़ की हड्डी बताया।-इस बजट में नई लाइनों, आमान परिवर्तन डबलिंग, मेट्रों ट्रान्स्पोर्ट, योजना और रेल विद्युतीकरण के लिए यूपी को सर्वाधिक धनराशि 4923.0 करोड़ आवंटित किया गया है।
-प्रदेश में 17 नये सर्वे के कामों के लिए धनराशि आंवटित की है।
-26 मागों में नये काम शुरू किये गये हैं।
-प्रदेश में इस वर्ष इस बजट में 57 ऊपरगामी और 125 सब वे प्रस्तावित है।
-प्रदेश में 5 रेल खण्डों का विद्युतीकरण किया जायेगा जिसमें कल्यानपुर-कासगंज-मथुरा रेल खण्ड शमिल है।
-चुनार-चोपन, गोरखपुर कैण्ट-कप्तानगंज-बाल्मीकि नगर, नोली-टपरी और जौनपुर प्रमुख है।
-संयुक्त बेन्यर के तहत 9 रेल खण्डों का यू0पी0 में विद्युतीकरण होगा।
-इनमें बरेली – चन्दौसी- हरद्वागंज,- चन्दौसी- मुरादाबाद, शिकोहाबाद – फर्रखाबाद, फाफामऊ से प्रतापगढ़ प्रमुख है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App