शाहजहांपुर: मुरादाबाद बैराज से छोड़ा गया पानी, बाढ़ का खतरा बना हुआ है

शाहजहांपुर: मुरादाबाद बैराज से छोड़ा गया पानी, बाढ़ का खतरा बना हुआ है

शाहजहांपुर: यूपी के शाहजहांपुर के कई ऐसे गांव है जो बाढ़ की चपेट मे आ गए है। नरौरा बैराज से दो लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। गांवों में बाढ़ का पानी पहुंच चुका है। जिसमें चार गांव डूब गए है और अब स्थिति और बिगड़ सकती है जब बैराज से छोड़ा गया पानी रामगंगा नदी में पहुंचेगा। उसके बाद स्थिति और भयावह हो जाएगी। इसके अलावा मुरादाबाद बैराज से करीब डेढ़ लाख पानी छोङा गया है। जिससे उम्मीद की जा रही है कि छोंड़े गए पानी से कई दर्जन गांव डूब सकते है। भारी नुकसान भी हो सकता है। जिलाधिकारी और एसपी मय फोर्स के साथ गांव पहुंचे और जरूरी दिशा निर्देश दिए। लापरवाही बरतने वाले लेखपाल कानून गो समेत तीन कर्मचारियों को निलंबित करने के निर्देश दिए है।

यह भी पढ़ें …..शाहजहांपुर: सिखों और ग्रामीणों के बीच बवाल, यहां हुई थी चूक

दरअसल आज मिर्जापुर थाना क्षेत्र के ग्राम इब्राहिमपुर, इस्माईलपुर समेत चार गांवों का दौरा जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी और एसपी एस चिनप्पा ने किया है। नरौरा बेराज से दो लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के चलते अब बाढ़ का खतरा बेहद बढ़ गया है। पहले ही इस इलाके के चार गांव बाढ़ की चपेट मे आ चुके है। गांव में बाढ़ का पानी घुस चुका है और अब खतरा इसलिए ज्यादा बढ़ गया है क्योंकि नरौरा बैराज से पानी छोड़े जाने से स्थिति और भी भयानक हो सकती है। जब बैराज से छोङा गया पानी नदी तक पहुचेगा। इलाके के कई गांव पानी आने पर डूब जाएंगे। इतना ही नहीं ग्रामीणें और अधिकारियों को इस बात का भी ड़र है कि क्योंकि मुरादाबाद से भी पानी छोड़ा गया है जो कुछ घंटों में रामगंगा मे पहुंच जाएगा।

शाहजहांपुर: मुरादाबाद बैराज से छोड़ा गया पानी, बाढ़ का खतरा बना हुआ है

गांव मे 11 हजार की हाईटेंशन लाईन पानी से कुछ उपर ही झूल रही थी। जिससे कभी भी हादसा हो सकता था। ये देखकर जिलाधिकारी ने बिजली के पोल तत्काल सही करने के आदेश दिए। इसके अलावा गांव में लेखपाल ने बाढ़ के चलते कोई भ्रमण नहीं किया। इस लापरवाही के चलते जिलाधिकारी ने लेखपाल और कानून गो को निलंबित करने के निर्देश दिए। इसके अलावा खतरे को देखते हुए जिलाधिकारी ने ग्रामीणों को मोमबत्ती माचिस, पन्नी, के साथ साथ ग्रामीणों के लिए खाद्यान का भी इंतजाम करने करने के निर्देश दिए।