ईरान परमाणु समझौते की प्रतिबद्धताओं का पालन कर रहा : IAEA

संयुक्त राष्ट्र की परमाणु निगरानी एजेंसी अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) ने एक बार फिर इस बात की पुष्टि की है कि ईरान परमाणु समझौते की प्रतिबद्धताओं का पालन कर रहा है।

ईरान परमाणु समझौते की प्रतिबद्धताओं का पालन कर रहा : IAEA

वियना : संयुक्त राष्ट्र की परमाणु निगरानी एजेंसी अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) ने एक बार फिर इस बात की पुष्टि की है कि ईरान परमाणु समझौते की प्रतिबद्धताओं का पालन कर रहा है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, आईएईए के निदेशक जनरल युकिया अमानो ने शुक्रवार को कहा कि ईरान परमाणु समझौते के तहत लिए गए संकल्प व प्रतिबद्धताओं के पालन के लिए एजेंसी के साथ सहयोग कर रहा है। अमानो ने कहा, “ईरान आईएईए के साथ अपने व्यापक सुरक्षा करार के अतिरिक्त प्रोटोकॉल का पालन कर रहा है।”

यह भी पढ़ें …. ईरान: बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण, मारक क्षमता 2000 km.

साल 2015 में हुए ईरान परमाणु समझौत के तहत आईएईए को इस बात की पुष्टि करने के लिए कहा गया है कि क्या ईरान समझौते की प्रतिबद्धताओं का पालन कर रहा है।

उन्होंने कहा, “जैसा कि मैंने बोर्ड ऑफ गवर्नर्स को बताया है कि ईरान संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के तहत परमाणु कार्यक्रम से संबंधित प्रतिबद्धताओं का पालन कर रहा है।”

यह भी पढ़ें …. हसन रुहानी भड़के कहा- लगता है ट्रंप ने अंतरराष्ट्रीय कानून नहीं पढ़ा

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के शासन को ‘कट्टरपंथी’ बताते हुए उसकी निंदा की है और अंतर्राष्ट्रीय परमाणु समझौते को प्रमाणित करने से इनकार कर दिया है। उन्होंने ईरान पर आतंकवाद को प्रायोजित करने का आरोप लगाया और कहा कि वह ईरान को परमाणु हथियार के रास्ते पर नहीं चलने देंगे।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा है कि ट्रंप ईरान के अंतर्राष्ट्रीय परमाणु समझौते को प्रमाणित नहीं करने का ‘एकतरफा’ फैसला नहीं ले सकते।

यह भी पढ़ें …. ईरान परमाणु समझौते पर ट्रंप का फैसला अफसोसजनक : रूस

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, ईरान पर ट्रंप की आक्रामक टिप्पणी के जवाब में रूहानी ने सरकारी टेीलविजन पर प्रसारित अपने बयान में कहा, “ईरान का परमाणु समझौता बहुपक्षीय समझौता है और किसी एक देश के राष्ट्रपति द्वारा इसे हटाया नहीं जा सकता।”

–आईएएनएस