बुआ और बबुआ को गरीबों का दुख नजर नहीं आता: PM मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि मोदी हटाओ का नारा तो महामिलावटियों का बहाना था, असल में इन्हें अपने अपने भ्रष्टाचार के पाप को छुपाना था, इसलिए ये कोशिश कर रहे हैं कि देश में जैसे-तैसे खिचड़ी सरकार बन जाए

मऊ: लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के लिए प्रचार अपने चरम पर है। राजनीतिक पार्टियां ताबड़तोड़ रैलियां कर रही हैं। इस कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के मऊ में एक चुनावी रैली को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने गठबंधन समेत विपक्ष पर जमकर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि वो महामिलावटी जो महीनेभर पहले तक मोदी हटाओ का राग अलाप रहे थे, वो आज बौखलाए हैं। उनकी पराजय पर देश ने मुहर लगा दी है। उत्तर प्रदेश ने तो इनका सारा गुणा गणित ही बिगाड़ दिया है। पीएम ने कहा कि देश इन महामिलावटी लोगों की सच्चाई पहले दिन से जानता है कि मोदी हटाना तो मात्र एक बहाना था साल में इन्हें अपने भ्रष्टाचार के पाप को छिपाना था।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की रैली के दौरान हुई हिंसा को लेकर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर तंज करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि आज राज्य में उनकी रैलियां होनी हैं, ‘‘देखते हैं कि ‘दीदी’ ये रैलियां होने देती हैं या नहीं ?’’

यह भी पढ़ें…चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और दलाई लामा को लेकर बड़ा खुलासा

प्रधानमंत्री ने कहा कि मोदी हटाओ का नारा तो महामिलावटियों का बहाना था, असल में इन्हें अपने अपने भ्रष्टाचार के पाप को छुपाना था, इसलिए ये कोशिश कर रहे हैं कि देश में जैसे-तैसे खिचड़ी सरकार बन जाए। ये एक मजबूर सरकार चाहते थे, जिसे वो अपनी जरूरत के हिसाब से ब्लैकमेल कर सकें।

पीएम मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा बसपा ने जाति के आधार पर एक अवसरवादी गठबंधन किया। लखनऊ में AC कमरें में बैठकर तो डील हो गयी, लेकिन जमीन से कटे हुए ये नेता अपने कार्यकर्ताओं को भूल गए। जिसका ये नतीजा निकला कि सपा और बसपा के कार्यकर्ता आज भी एक दूसरे पर हमले कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें..समय पूर्व एक्जिट पोल पर सख्‍त चुनाव आयोग, ट्विटर को सभी ट्वीट हटाने का आदेश

पीएम मोदी ने कहा कि इन लोगों के कुछ जातियों को अपना गुलाम समझ लिया था, 2014 में पहली बार समझने और 2017 में दूसरी बार समझाने के बाद उत्तर प्रदेश के लोग 2019 में अच्छे से समझाने जा रहे हैं कि जातियां किसी की गुलाम नहीं हैं।

यह भी पढ़ें..कश्मीर: सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, 3 आतंकी ढेर, 1 जवान शहीद

उन्होंने कहा कि अब बुआ हो या बबुआ हो, इन लोगों ने खुद को गरीबों से इतना दूर कर लिया है, इन्होने अपने आसपास पैसे की, वैभव की और अपने दरबारियों की इतनी बड़ी दीवार खड़ी कर ली है की अब इन्हें गरीबों का दुःख नजर नहीं आता।

मोदी ने कहा कि मैं उन किसान परिवारों के बैंक खाते में सीधी मदद देने में जुटा हूं, जिन्हें छोटे-छोटे खर्च के लिए भी कर्ज लेना पड़ता था। कुछ दिन पहले राजस्थान के अलवर में एक दलित बेटी के साथ गैंगरेप किया गया था। वहां बहन जी के समर्थन से कांग्रेस की सरकार चल रही है। कांग्रेस की सरकार ने चुनाव को देखते हुए उस दलित बेटी के साथ हुए इस राक्षसी अपराध को छिपाने की कोशिश की।

उन्होंने कहा कि मैं यहां की और पूर्वांचल की महिलाओं को विशेष आग्रह करूंगा कि वो ऐसे महिला विरोधी दलों के खिलाफ पूरी ताकत से मतदान करे। महिलाओं की गरिमा और उनकी मर्यादा एवं हितों के लिए मतदान करें। बहन जी सब जानती हैं, लेकिन कांग्रेस सरकार से समर्थन वापस लेने के बजाय वो मोदी को गालियां देने में जुटी।

उन्होंने कहा कि सपा-बसपा ने यहां से ऐसे उम्मीदवार को टिकट दिया है जो बलात्कार के आरोप में भगौड़ा है। समाजवादी पार्टी का इतिहास तो लोग जानते हैं, लेकिन बहन जी आप क्या ऐसे उम्मीदवार के लिए वोट मांगेगी? बहन जी ने पश्चिम बंगाल को लेकर मुझ पर निशाना साधा है। चुनाव आयोग को भी आड़े हाथों लिया है।

मोदी ने कहा कि जिस तरह ममता दीदी वहां पर यूपी-बिहार और पूर्वांचल के लोगों पर निशाना साध रही हैं, मुझे लगा बहन मायावती इस पर ममता दीदी को जरूर खरी-खोटी सुनाएंगी। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। कुछ महीने पहले जब पश्चिम मिदनापुर में मेरी सभा थी तो वहां TMC के गुंडों द्वारा अराजकता फैलाई गयी थी। इसके बाद ठाकुरनगर में तो ये हालत कर दी गई थी कि मुझे अपना संबोधन बीच में छोड़कर मंच से हट जाना पड़ा था।