U’Khand: PM नरेंद्र मोदी बोले- 12 मार्च को कांग्रेस की सरकार भूतपूर्व हो जाएगी

U'Khand: PM नरेंद्र मोदी बोले- 12 मार्च को कांग्रेस की सरकार भूतपूर्व हो जाएगी

गढ़वाल: उत्तराखंड के श्रीनगर में एक रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ’11 मार्च को अभूतपूर्व नतीजे आएंगे और 12 को कांग्रेस की सरकार भूतपूर्व हो जाएगी। इस दौरान पीएम ने राज्य में पर्यटन उद्योग को लेकर अपने सराकर की सोच बताई। उन्होंने कहा, वर्तमान रावत सरकार ने नौकरी के लिए युवाओं के पलायन रोकने में पूरी तरह विफल रहा है।

अपने संबोधन में पीएम ने कहा सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने वालों को आप जवाब देंगे। इन लोगों ने जवानों की बहादुरी पर शक किया, इसे बस आप जवाब देंगे।

पीएम मोदी ने श्रीनगर के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि अटल जी ने तीन राज्य दिए। बिहार से झारखंड, मध्य प्रदेश से छत्तीसगढ़ और यूपी से उत्तराखंड दिया। छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद होने के बावजूद वहां की जनता ने बीजेपी की सरकार बनाई। झारखंड में आदिवासी हैं, कोई कल्पना नहीं कर सकता कि छत्तीसगढ़ में निवेश के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर के व्यापारी आते हैं। बताईये क्या कारण है कि उत्तराखंड पीछे रह गया?

विरोध करने वाला कैसे कर सकता है भला
पीएम ने कहा, कांग्रेस वाले कहते थे कि मर जाएंगे लेकिन उत्तराखंड नहीं बनने देंगे। उन्होंने कहा उत्तराखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड बनने का विरोध किया था। फिर वो उत्तराखंड का कैसे भला कर सकते हैं।

आगे की स्लाइड में पढ़ें और क्या कहा पीएम ने …

सब कांग्रेस-सपा का खेल है
पीएम ने आगे कहा, कि कांग्रेसियों ने उत्तराखंड की जनता के घावों पर एसिड छिड़कने का काम किया है। उत्तराखंड आंदोलन के दौरान रामपुर तिराहे पर क्या हुआ था, आपको याद है। वो जुल्म सपा ने किए थे। आज दोनों गले मिल गए हैं। उत्तराखंड में सपा-कांग्रेस पर्दे के पीछे मिलकर खेल चला रहे हैं।

सिक्किम से लें सीख
पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘ये चुनाव उत्तराखंड का भाग्य बदलने के लिए है। ये तपस्या और सामर्थ्य की भूमि है। सिक्किम को देखिए। वहां की जनसंख्या मात्र 8 लाख है लेकिन 20 लाख से ज्यादा पर्यटक वहां आते हैं।’

कपाट बंद होने के बाद सरकार विज्ञापन देती है
पीएम ने कहा, ‘देशवासी गंगा में डुबकी लगाने आते हैं। चारधाम की यात्रा आने के लिए लालायित रहते हैं। यहां यात्री को बुलाने के लिए विज्ञापन देने की जरूरत नहीं होती। ब्रदीनाथ-केदारनाथ के कपाट बंद होने के बाद यहां की सरकार विज्ञापन देती है।’