मराठा आरक्षण पर फडणवीस बोले- 1 दिसंबर को जश्न के लिए तैयार रहें

मुंबई : महाराष्ट्र में मराठा समुदाय की सामाजिक और आर्थिक स्थितियों पर राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग ने गुरुवार को अपनी रिपोर्ट मुख्य सचिव डी के जैन को सौंप दी है।

सूत्रों के मुताबिक इस रिपोर्ट में अन्य पिछड़ा वर्गों को दिए गए आरक्षण से इतर सरकारी नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में आरक्षण के लिए मराठा समुदाय की मांगों पर ‘अनुकूल सिफारिशें’ की गईं हैं।

जानिए कब क्या हुआ

मराठा आरक्षण आंदोलन हुआ तेज, मुंबई में जेल भरो आंदोलन आज से शुरू

मराठा आरक्षण आंदोलन हुआ हिंसक , मुंबई बंद का आह्वान आज

मराठा क्रांति मोर्चा : महाराष्ट्र बंद हुआ हिंसक, सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग

जाट और मराठा के आरक्षण का भी पक्षधर : कह रहे हैं नीतीश

मुंबई में मूक मराठा क्रांति मोर्चा में लाखों शामिल, ट्रैफिक जाम

क्या बोले सीएम देवेंद्र फडणवीस

अहमदनगर में एक रैली में अपने संबोधन में सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा, हमें पिछड़ा आयोग से मराठा आरक्षण पर रिपोर्ट मिली है। मैं आप सभी को 1 दिसंबर को जश्न मनाने के लिए तैयार रहने का अनुरोध करता हूं।

क्या कहा मुख्य सचिव डी के जैन ने

जैन ने कहा, हमें रिपोर्ट मिली है, जो मराठों की आर्थिक, सामाजिक स्थितियों पर आधारित है। इसका अध्ययन करने के बाद उचित निर्णय लिया जाएगा।

उन्होंने कहा,  कमीशन ने इसके बारे में 2 लाख ज्ञापनों, लगभग 45,000 परिवारों के सर्वेक्षण के साथ-साथ मराठा समुदाय की सामाजिक, वित्तीय और शैक्षणिक पिछड़ेपन के प्रायोगिक आंकड़ों का अध्ययन किया।

कैसे तैयार हुई रिपोर्ट

बताया जा रहा है कि रिपोर्ट तैयार करने के लिए आयोग ने ऐतिहासिक अभिलेखों, पुराने फैसलों, संवैधानिक प्रावधान का अध्ययन किया, उल्लेखनीय मानवविज्ञानी, समाजशास्त्री इरावती कर्वे के लेख और पुणे के गोखले इंस्टीट्यूट ऑफ पॉलिटिक्स एंड इकोनॉमिक्स और अन्य जैसे कई संगठनों का बारीकी से अध्ययन किया है।