पीएम मोदी की तारीफ में ये क्या बोल गये बिहार के राज्यपाल फागु चौहान?

उत्तर प्रदेश के घोसी से विधायक रहे फागु चौहान अभी हाल ही में बिहार का राज्यपाल बनाए गए हैं। सब जानते हैं कि राज्यपाल एक संवैधानिक पद है और उसकी एक गरिमा होती है।

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के घोसी से विधायक रहे फागु चौहान अभी हाल ही में बिहार का राज्यपाल बनाए गए हैं। सब जानते हैं कि राज्यपाल एक संवैधानिक पद है और उसकी एक गरिमा होती है।

लेकिन फागु चौहान को इस बात शायद परवाह नहीं है। कश्मीर से धारा 370 हटाने के फैसले पर बात करते-करते गवर्नर साहब मोदी भक्ति में डूब गए, और इस कदर डूबे की शब्दों की मर्यादा भी भूल गए।

राज्यपाल ने कही ये बात

यकीनन जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाना एक साहसिक फैसला है। पूरे देश में इसकी तारीफ हुई और आगे भी होती रहेगी।लेकिन बिहार के नए-नवेले राज्यपाल फागु चौहान पीएम की तारीफ में कुछ ज्यादे ही बोल गए।

उन्होंने कहा कि ‘’कश्मीर से धारा 370 हटाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह साबित कर दिया कि जिसके पास 56 इंच का सीना है। वहीं सीने वाला काम कर सकता है।’’ यकीनन उनके इस बयान में कुछ भी अटपटा नहीं है।

बस कुछ गलत है तो वो गर्वनर का पद। अगर ये बात बीजेपी का कार्यकर्ता या मोदी समर्थक बोले तो गलत नहीं है। लेकिन जब गर्वनर जैसे संवैधानिक पद पर बैठा हुआ कोई शख्स इस तरह के शब्दों का चयन करता है तो बात जरुर खटकती है।

ये भी पढ़ें…जम्मू कश्मीर पर गुस्सा! हवस का भूखा हैं ये एमपी -रिचा चड्ढा

बीजेपी के वरिष्ठ नेता रह चुके हैं फागु चौहान

फागु चौहान की गिनती उत्तर प्रदेश में बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में होती है। साल 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी को हराया था।

हालांकि उन्हें राज्य सरकार में जगह नहीं दी गई, जिसे लेकर चर्चा चलती रही। इस बीच मोदी सरकार ने अचानक उनके ऊपर कृपा बरसाते हुए सीधे पड़ोसी राज्य बिहार का गर्वनर बना दिया।

बिहार के राज्यपाल फागु चौहान गुरुवार को वाराणसी पहुंचें।उन्होंने श्री काशी विश्वनाथ मंदिर दर्शन में भगवान भोले का विधिवत दर्शन-पूजन किया।

ये भी पढ़ें…Mee Too की कतार में अब शर्लिन भी आई, इस डायरेक्टर पर लगाये ये गंभीर आरोप

बिहार के राज्यपाल ने मां विंध्यवासिनी के चरणों में नवाया शीश

आदिशक्ति जगत जननी मां विंध्यवासिनी के दरबार विंध्यधाम पहुंचकर बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने गुरुवार की दोपहर मां विन्ध्यवासिनी का विधि-विधान से पूजन-अर्चन किया। दर्शन-पूजन के बाद अपने पैतृक निवास आजमगढ़ के लिए प्रस्थान कर गए।

बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने दिल्ली से हवाई मार्ग से बनारस पहुंचे। वहां से सड़क मार्ग से चलकर दोपहर डेढ़ बजे अष्टभुजा पहाड़ स्थित डाकबंगला पहुंचे। कुछ देर विश्राम करने के बाद दो बजे मां विंध्यवासिनी माता के दरबार में पहुंचकर गर्भगृह में विधि-विधान से दर्शन-पूजन किए और अपने परिवार व राज्य के सुख-समृद्धि की कामना की। दर्शन-पूजन का कार्य तीर्थ पुरोहित पशुपतिनाथ मिश्रा ने कराया।

ये भी देखें : कानपुर में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव ने पीएम मोदी के लिए कही ये खास बात

इसके उपरांत वे अपने पैतृक गृह आजमगढ़ के लिए रवाना हुए। दर्शन-पूजन के उपरांत गर्भगृह से बाहर निकलते ही श्रीविंध्य पंडा समाज के कार्यवाहक अध्यक्ष प्रहलाद मिश्रा मिश्रा व मंत्री भानू पाठक ने मां विंध्यवासिनी का चुनरी पहनाकर राज्यपाल का स्वागत एवं सम्मान किया।

बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने दर्शन-पूजन करने के उपरांत नगर विधायक रत्नाकर मिश्र के आवास पर पहुंचकर उनकी माता स्व. शंकर देई के चित्र पर पुष्प चढ़ाकर मृत आत्मा की शांति के लिए मां विंध्यवासिनी से प्रार्थना किया।