प्रियंका गाँधी का तीन दिवसीय दौरा, बीजेपी के सबसे मजबूत किले को भेदने की कोशिश

बताया गया कि प्रियंका गाँधी 3 अप्रैल को कानपुर आएंगी । जहाँ पर कानपुर के कार्यकर्ता उनका भव्य स्वागत करेंगे । इसके बाद प्रियंका गाँधी जालौन के लिए रवाना हो जाएंगी । जालौन में प्रियंका गाँधी का रोड शो और विशाल जनसभा का आयोजन किया जाएगा । 4 अप्रैल को प्रियंका गाँधी हमीरपुर जाएगीं जहाँ पर वो रोड शो ,जनसभा और ग्रामीणों से संवाद करेंगी ।

कानपुर:  बुंदेलखंड भारतीय जनता पार्टी का सबसे मजबूत किला है । इस किले को भेदने  लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी तीन दिवसीय बुंदेलखंड के दौरे पर आ रही है । प्रियंका गाँधी कानपुर से होते हुए जालौन ,हमीरपुर ,बाँदा चित्रकूट जाएगीं । प्रियंका गाँधी रोड शो ,जनसभाए नुक्कड़ सभाएं  और ग्रामीणों से सीधा संवाद करेंगी । कांग्रेस के कार्यकर्ता और पदाधिकारी तैयारियों में जुटे है वहीं  विपक्षी खेमे में भी हलचल तेज हो गई है ।

कांग्रेस हाईकमान ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी के  तीन दिवसीय प्रस्तावित कार्यक्रम की घोषणा की है ।

जिसमें बताया गया कि प्रियंका गाँधी 3 अप्रैल को कानपुर आएंगी । जहाँ पर कानपुर के कार्यकर्ता उनका भव्य स्वागत करेंगे । इसके बाद प्रियंका गाँधी जालौन के लिए रवाना हो जाएंगी । जालौन में प्रियंका गाँधी का रोड शो और विशाल जनसभा का आयोजन किया जाएगा । 4 अप्रैल को प्रियंका गाँधी हमीरपुर जाएगीं जहाँ पर वो रोड शो ,जनसभा और ग्रामीणों से संवाद करेंगी ।

ये भी देखें :वीवीपैट मामला : आयोग के हलफनामे पर जवाब दाखिल करने के लिए विपक्ष को एक सप्ताह का समय

हमीरपुर से होते हुए वो महोबा जाएंगी जहां  पर रोड शो करने के साथ ही ग्रामीणों के साथ नुक्कड़ सभा करेंगी । 6 अप्रैल को प्रियंका गाँधी बाँदा और चित्रकूट जाएंगी जहा पर रोड शो और जनसभा को संबोधित करेंगी ।

तीन दिवसीय दौरे में  प्रियंका गाँधी कामदगिरी मंदिर में दर्शन करने के साथ ही मंदाकनी नदी की आरती और पूजा भी  करेंगी । प्रियंका गाँधी इस  तीन दिनों के प्रवास पर कांग्रेस के कार्यकर्ताओ  को जीत का मंत्र भी देगी और संगठन को मजबूत करने के लिए दिशा निर्देश देंगी ।

प्रियंका गाँधी के आगमन से कार्यकर्ताओ में ख़ुशी की लहर है, इतना नही बुंदेलखंड के लोग भी प्रियंका गाँधी को देखना और सुनना चाहते है ।

हम आपको बता दें कि कानपुर बुंदेलखंड में 10 लोकसभा सीटें हैं  जिसमें  से चार सीटें यूपी ईस्ट प्रभारी प्रियंका गाँधी के पास है । जिसमें  हमीरपुर ,जालौन ,झाँसी ,बाँदा सीटें शामिल है ।

ये भी देखें :भाई वाह! बाजार में बहार है, सेंसेक्स पहली बार 39 हजार के पार है

कानपुर बुंदेलखंड की 6 लोकसभा सीटें यूपी वेस्ट प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास है जिसमें  से कानपुर ,अकबरपुर ,फरुखाबाद, कन्नौज ,इटावा ,मिश्रिख है । यूपी ईस्ट प्रभारी प्रियंका गाँधी कानपुर बुंदेलखंड की अपने प्रभार वाली सीटों पर रोड शो और जनसभा कर, बीजेपी की जड़ें हिलाने कि कोशिश  करेंगी ।

बीजेपी का मजबूत गढ़

एक समय था कि कानपुर बुंदेलखंड कांग्रेस पार्टी का गढ़ हुआ करता था । लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद कानपुर और बुंदेलखंड की तश्वीर बदल गई । कन्नौज संसदीय क्षेत्र को छोड़ कर पूरे कानपुर बुंदेलखंड में भगवा ध्वज लहरने लगा ।

किसी भी राजनैतिक दल ने  इस किले को भेदने की हिम्मत नहीं जुटाई ।

2014 के लोकसभा चुनाव में कानपुर बुंदेलखंड की 10 लोकसभा सीटों में से बीजेपी ने 09 सीटें जीत कर इतिहास रच दिया था । बीजेपी के हाथ से कन्नौज लोकसभा सीट फिसल गई थी अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल यादव ने कन्नौज की सीट जीत कर समाजवादी पार्टी का सम्मान बचाया था ।

ये भी देखें :पब्लिक की बेहद मांग पर, पैन के साथ आधार जोड़ने की समयसीमा 30 सितंबर तक बढ़ी

इसके बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में कानपुर बुंदेलखंड की 52 विधानसभा सीटों में से बीजेपी ने 47 सीटें जीती थी । कानपुर बुंदेलखंड की 5 विधानसभा सीटें ही विपक्षी पार्टियों के हाथ लगी थी । इस जीत के बाद से कानपुर बुंदेलखंड बीजेपी का सबसे मजबूत गढ़ बन गया ।

कानपुर बुंदेलखंड की राजनीती उसकी भगौलिक स्थिति और जातिगत समीकरणों पर आधारित है । इस समीकरण को समझने में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी को अभी समय लगेगा ।

2014 के लोकसभा चुनाव के बाद भी बुंदेलखंड में कोई विशेष परिवर्तन नही हुआ है । स्थिति अभी भी जस की तस बनी हुई है यहाँ के लोगो की सबसे खास बात यह है कि यहाँ कि जनता परिवर्तन पर भरोसा करती है ।

अब देखने वाली बात यह कि 2019 के लोकसभा चुनाव कानपुर बुंदेलखंड की जनता परिवर्तन करती है या फिर बीजेपी पर भरोसा ।