इस बड़े धनकुबेर ने लुटा दी दौलत, कोरोना के खिलाफ खड़ी की नोटों की दीवार

कोरोना के खिलाफ जंग में मित्र देशों के साथ उतरे इस धनकुबेर ने अपने खजाने का पिटारा खोलकर साझा प्रयासों में नई जान डाल दी है। इस कुबेर ने छोटा मोटा नहीं इस जंग में 76 अरब रुपये का महादान दिया है।

कोरोना के खिलाफ जंग में मित्र देशों के साथ उतरे इस धनकुबेर ने अपने खजाने का पिटारा खोलकर साझा प्रयासों में नई जान डाल दी है। इस कुबेर ने छोटा मोटा नहीं इस जंग में 76 अरब रुपये का महादान दिया है।

ट्विटर के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैक डोर्सी ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अपनी कुल संपत्ति का एक चौथाई से अधिक हिस्सा तकरीबन एक बिलियन डॉलर का कोष डोनेट करने का एलान किया है।

जैक डोर्सी ने स्क्वायर में लगाई गई 1 बिलियन डॉलर की इक्विटी को चैरिटेबल फंड में दान किया है। ये फंड स्टार्ट एलएलसी को वैश्विक कोविड-19 राहत के लिए दिया जा रहा है।

डोरसी ने जोर दिया कि महामारी के खत्म होने के बाद वह अन्य पहलों का समर्थन करेंगे। इसमें लड़कियों के स्वास्थ्य और शिक्षा, और सार्वभौमिक बुनियादी आय (यूबीआई) आदि पर प्राथमिक तौर पर फोकस किया जाएगा।

गौरतलब है कि स्क्वायर कंपनी के को-फाउंडर जैक डोर्सी ही हैं। उन्होंने ट्वीट के जरिए ये जानकारी दी है। उन्होंने ये भी कहा है कि ये डोनेशन उनके नेट वर्थ के 28% के बराबर है।

उम्मीद दूसरे भी आएंगे आगे

टेक मुगल ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि उनता यह दान दूसरों को आगे आने और जितना संभव हो सके उतना मदद करने के लिए प्रेरित करेगा। उन्होंने लिखा, इस धनराशि का प्रभाव दीर्घावधि में दोनों कंपनियों को लाभान्वित करेगा क्योंकि यह राशि उन लोगों की मदद पर खर्च होगी जिनकी हम सेवा करना चाहते हैं।

इस ट्वीट के साथ उन्होंने एक गूगल डॉक्यूमेंट भी अटैच किया है, वो चाहते हैं कि उनके द्वारा किए गए फंड डोनेशन को जनता भी जान सके। आम तौर पर लिमिटिड लायब्लिटी कंपनी यानी LLC, जिसके जरिए डोर्सी डोनेट कर रहे हैं, इसमें ट्रांसपेरेंसी को लेकर समस्या आती है। इसलिए उन्होंने ये डीटेल्स शेयर की हैं ताकि पारदर्शिता बनी रहे।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App