गोवा के लोगों की हैं ये प्राथमिकताएं, सरकार को दिए इतने नंबर

एडीआर के इस सर्वेक्षण में 534 लोकसभा निर्वाचन-क्षेत्रों को सम्मिलित किया गया, जिसमें विभिन्न जनसांख्यिकी के 2,73,479 मतदाताओं ने भाग लिया। इस सर्वेक्षण के तीन मुख्य उद्देश्य थे, शासन के विशिष्ट मुद्दों पर मतदाताओं की प्राथमिकताएं, उन मुद्दों पर सरकार के प्रदर्शन की मतदाताओं द्वारा रेटिंग और मतदान के व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारक।

लखनऊ: एडीआर के इस सर्वेक्षण में 534 लोकसभा निर्वाचन-क्षेत्रों को सम्मिलित किया गया, जिसमें विभिन्न जनसांख्यिकी के 2,73,479 मतदाताओं ने भाग लिया। इस सर्वेक्षण के तीन मुख्य उद्देश्य थे, शासन के विशिष्ट मुद्दों पर मतदाताओं की प्राथमिकताएं, उन मुद्दों पर सरकार के प्रदर्शन की मतदाताओं द्वारा रेटिंग और मतदान के व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारक।

यह सर्वेक्षण 31 सूचीबद्ध मुद्दों जैसे पेयजल, बिजली, सड़कें, भोजन, स्वास्थ्य, सार्वजनिक परिवहन इत्यादि पर मतदाताओं की प्राथमिकताओं पर प्रकाश डालता है, जो कि उनके संबंधित क्षेत्र में उनके जीने की स्थिति को बेहतर बनाने में इनकी क्षमता, शासन और विशिष्ट भूमिका के अनुसार तय किये गये हैं।

यह भी पढ़ें…चुनाव आयोग द्वारा मेनका गांधी पर लगाए गए प्रतिबंध को लेकर कसा तंज

सर्वेक्षण में एक त्रिस्तरीय पैमाने ‘अच्छा’, ‘औसत’ और ‘बुरा’ का इस्तेमाल किया गया, जहां अच्छा को पांच, औसत को तीन और बुरा को एक अंक दिये गये। हम आपको गोवा के मतदाताओं की राय बताते हैं। इस सर्वेक्षण में गोवा के दो लोकसभा क्षेत्रों के करीब 1000 लोग शामिल हुए। सर्वे में रेटिंग के लिए 5 अंक रखे गए हैं। इसमें 3 नंबर को औसत और 1 को खराब प्रदर्शन माना गया है।

यह भी पढ़ें…आईआईटी कानपुर ने तैयार किया जीवन रक्षक यंत्र, यन्त्र को एसजीपीजीआई लखनऊ को सौंपा गया

गोवा सर्वेक्षण 2018 के मुताबिक प्रदेश के मतदाताओं की बेहतर रोजगार (65.92%), बेहतर कूड़े के निस्तारण(44.78%) और सस्ते खाद्य पद्यार्थ (43.93%) मुख्य तीन प्राथमिकताए हैं। साथ ही मतदाताओं ने इन मुख्य तीन प्राथमिकताओं को लेकर सरकार को बेहतर रोजगार (5 में से 2.62), बेहतर कूड़े के निस्तारण(2.58) और सस्ते खाद्य पद्यार्थ (2.83) रेटिंग दी है जो औसत से नीचे है।

ग्रामीण गोवा के मतदाताओं की बेहतर रोजगार (68%), सस्ते खाद्य पद्यार्थ(56%) और बेहतर अस्पतालों/ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र(43%) तीन मुख्य प्राथमिकताए हैं। इसके अलावा ग्रामीणों ने सरकार के कामकाज को बेहतर रोजगार के लिए (5 में से 2.66), सस्ते खाद्य पद्यार्थ(2.56) और बेहतर अस्पतालों/ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र(2.65) दी है जो औसत से नीचे है। बेहतर सार्वजनिक परिवहन और बेहतर कूड़े के निस्तारण को लेकर सरकार का ग्रामीण गोवा में खराब प्रदर्शन रहा है।

यह भी पढ़ें…DGCA हवाई सफर के किराए में उतार-चढ़ाव पर रखेगा रोजाना नजर

गोवा के शहरी मतदाताओं की बेहतर रोजगार (64%), यातायात संकुलन (50%), और बेहतर साफ-सफाई (47%) प्राथमिकताए हैं। इसके साथ ही शहरी मतदाताओं ने बेहतर रोजगार के लिए (5 में से 2.58), यातायात संकुलन(2.65) और बेहतर कूड़े के निस्तारण (2.66) रेटिंग दी है जो औसत से नीचे है। बेहतर सड़क और पानी के पानी को लेकर सरकार को खराब प्रदर्शन रहा है।