जो कुकिंग ऑयल खाने के लिए है नुकसानदेय, वो है गाड़ियों के इंजन के लिए है फायदेमंद

अक्सर घरों में खाना बनाते समय बच गए तेल को दोबारा इस्तेमाल किया जाता है। इन कुकिंग तेलों का इस्तेमाल केवल घरों में  नहीं रेस्टोरेंट व होटलों में भी इस्तेमाल होता है जो हेल्थ के लिए नुकसानदायक है। लेकिन जो लोगो समझदार होते है वो बचे तेल को फेंक देते है लेकिन दोबारा इस्तेमाल नहीं करतें।

जयपुर: अक्सर घरों में खाना बनाते समय बच गए तेल को दोबारा इस्तेमाल किया जाता है। इन कुकिंग तेलों का इस्तेमाल केवल घरों में  नहीं रेस्टोरेंट व होटलों में भी इस्तेमाल होता है जो हेल्थ के लिए नुकसानदायक है। लेकिन जो लोगो समझदार होते है वो बचे तेल को फेंक देते है लेकिन दोबारा इस्तेमाल नहीं करतें। लेकिन सरकार की ओर से इन तेल को दोबारा ईंधन के तौर इस्तेमाल की योजना बनाई जा रही है।प्रदूषण कम करने के लिए जहां सरकार ने देश में इलेक्ट्रिक वाहनों पर बल दिया है वही दूसरी ओर इस्तेमाल हो चुके खाने के तेल से अब बायोडीजल बनाने की पहल है।

बड़ी ख़बर: अब दंगल गर्ल बीजेपी में शामिल होंगी, पिता भी देंगे साथ

इसके तहत सरकारी ऑयल मार्केटिंग कंपनियों (ओएमसी) इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिन्दुस्तान पेट्रोलियम ने इस्तेमाल किए खाने के तेल से बायोडीजल बनाना शुरु किया है। ओएमसी ने 100 शहरों में खाने के तेल से बने बायोडीजल को खरीदने के लिए कार्यक्रम की शुरुआत की है। इस प्रोजेक्ट को ‘वर्ल्ड बायोफ्यूल डे’  पर पेट्रोलियम मंत्री ने लॉन्च किया।

इस योजना के अनुसार तेल कंपनियां बायोडीजल के निर्माण को लेकर प्राइवेट कंपनियों से समझौता करेंगी, जो बायोडीजल बनाने के लिए प्लांट लगाये। शुरुआत में तेल कंपनियां बायोडीजल 51 रुपये प्रति लीटर लेंगी और दूसरे साल इसकी कीमत बढ़कर 52.7 रुपये लीटर होगी और तीसरे साल बढ़कर 54.5 रुपये प्रति लीटर हो जाएगी।

एक तरफ अजान की गूंज तो दूसरी तरफ भोले बाबा के भक्तों का हुजूम, देखें काशी का नजारा
इस नई योजना को रीपर्पज यूज्ड कुकिंग ऑयल (RUCO) स्टीकर और यूज्ड कुकिंग ऑयल (UCO) के लिए मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया। इसके जरिये नजर रखी जाएगी कि इस्तेमाल हो चुका तेल दोबारा इस्तेमाल न हो। इसके लिए बाकायदा होटल और रेस्टोरेंट्स में स्टीकर लगाए जाएंगे। और इससे करीब 110 करोड़ लीटर बायोडीजल तैयार ह।

सेहत के लिए खराब

अगर तेल को बार-बार इस्तेमाल किया जाता है तो वह सेहत के लिए खराब है। इस तेल को दोबारा इस्तेमाल से हाइपरटेंशन, ऐथिरोस्कलेरोसिस, अल्जाइमर से जुड़ी बीमारियां होती हैं।

इंजन के लिए फायदेमंद

इसके अलावा इनसे बनने वाले तेल से की खास बात यह है कि बायोडीजल से चलने वाले वाहनों के इंजन की आयु बढ़ जाएगी। यही नहीं, बायोडीजल का बीएस 6 वाहनों में आसानी से प्रयोग किया जा सकता है।

जम्म-कश्मीर को किया काला, अब बुरा फंसी विवादित एक्ट्रेस सोशल मीडिया पर