लोढ़ा पैनल ने कहा- नहीं फ्रीज किए गए BCCI के अकाउंट, IND-NZ. सीरीज पर नहीं है खतरा

Published by Published: October 4, 2016 | 9:24 am
Modified: October 4, 2016 | 1:04 pm

मुबंईः लोढ़ा पैनल ने साफ कहा है कि बीसीसीआई को अकाउंट से रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाले पैसे निकालने पर रोक नहीं लगाई गई है। सुप्रीम कोर्ट ने यस बैंक के अध्यक्ष अनिल सेट से  तीन अक्टूबर को कहा था कि वह बीसीसीआई के खातों को फ्रीज कर दें, लेकिन रोजमर्रा के कामों पर इसका असर नहीं दिखे। इसके लिए बीसीसीआई को पैसे जमा करने और निकालने की मनाही नहीं है। इससे भारत-न्यूजीलैंड के अलावा दूसरी किसी भी होने वाली सीरीज पर कोई खतरा नहीं है।

बीसीसीआई ने लिया था सीरीज रद्द करने का फैसला
जस्टिस एल एम लोढ़ा पैनल ने बीसीसीआई के बैंक अकाउंट फ्रीज करने के निर्देश बैंक को दिए हैं। इस पर संज्ञान लेते हुए बैंक ने बीसीसीआई के बैंक अकाउंट फ्रीज कर दिए। इससे नाराज बीसीसीआई भारत-न्यूजीलैंड के बीच चल रही सीरीज को रद्द करने पर विचार कर रही थी। भारत-न्यूजीलैंड के बीच अभी एक टेस्ट और 5 वन डे मैच बाकी हैं। बोर्ड के अधिकारी ने बताया कि बैंक ने बीसीसीआई के अकाउंट फ्रीज करने का फैसला लिया है। इसलिए बोर्ड के पास भारत-न्यूजीलैंड दौरा रद्द करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है।

ये भी पढ़ें…लोढ़ा समिति ने SC को सौंपी सिफारिश, कहा- BCCI खुद को कानून से ऊपर समझता है

पैनल ने बैंको को दिए निर्देश
लोढ़ा पैनल ने बीसीसीआई का खाता रखने वाले बैंको को निर्देश दिए हैं कि वह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को किसी भी तरह की राशि का भुगतान ना करें। लोढ़ा पैनल के सिफारिशों का बीसीसीआई द्वारा उल्लघंन किए जाने से वह काफी नाराज है। बता दें कि 30 सितंबर को अपनी विशेष आम बैठक में बीसीसीआई ने कई वित्तीय फैसले लिए हैं।

लोढ़ा पैनल ने लिखा बैंको को लेटर
पैनल को पता चला है की बीसीसीआई द्वारा 30 सितंबर 2016 को की गई आपात बैठक में कुछ फैसले लिए गए हैं। इसमें विभिन्न सदस्य संघों को काफी बड़ी राशि दी गई है। पैनल ने इस लेटर को बीसीसीआई सचिव अजय शिर्के, मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जोहरी और कोषाध्यक्ष अनिरूद्ध चौधरी को भी भेजा है।

ये भी पढ़ें… SC का फैसला, सरकारी अफसर या मंत्री अब नहीं हो सकेंगे BCCI में शामिल

बीसीसीआई ने किया है उल्लघंन
पैनल का कहना है कि उनके द्वारा 31 अगस्त 2016 को दिए निर्देश के अनुसार बीसीसीआई दिनचर्या के मामलों पर ही चर्चा कर सकता है। इसके अलावा भविष्य से संबंधित कोई भी फैसले नहीं लिए जा सकते है। इस तरह की राशि का भुगतान करना दिनचर्या का काम नहीं है। बीसीसीआई ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के साथ ही लोढ़ा पैनल द्वारा तय की गई समय सीमा का भी उल्लघंन किया है। इसमें फंड के वितरण की नीति 30 सितंबर 2016 तक गठित किया जाना शामिल है।