मानसून में बढ़ जाती हैं राजस्थान की खूबसूरती, बनाएं यहां घूमने का प्लान तो लें यहां के खाने का स्वाद

मानसून ने धीरे-धीरे अपने आगमन के संकेत दे दिए हैं और तापमान में कमी आने लगी हैं। जिसके चलते सैलानियों की संख्या में इजाफा होने लगा हैं।राजस्थान को अपनी विशेष संस्कृति और प्राकृतिक नजारों के लिए भी जाना जाता हैं जो यहां के पर्यटन को बढ़ावा देते हैं। मॉनसून का सीजन आ चुका हैं और इस मौसम में राजस्थान घूमने का आपना अलग ही मजा हैं।

जयपुर:मानसून ने धीरे-धीरे अपने आगमन के संकेत दे दिए हैं और तापमान में कमी आने लगी हैं। जिसके चलते सैलानियों की संख्या में इजाफा होने लगा हैं।राजस्थान को अपनी विशेष संस्कृति और प्राकृतिक नजारों के लिए भी जाना जाता हैं जो यहां के पर्यटन को बढ़ावा देते हैं। मॉनसून का सीजन आ चुका हैं और इस मौसम में राजस्थान घूमने का आपना अलग ही मजा हैं। यहां के नज़ारे और प्राकृतिक दृश्य आपको जन्नत का अहसास करवाते हैं और घूमने का मजा देते हैं।  जानते है मॉनसून में राजस्थान घूमने की विशेषता के बारे में।  खासकर गुलाबीनगरी जयपुर में। जहां इस मौसम में जयपुर के किले, महल और यहां की खूबसूरती को निहारने के लिए देश- विदेश से पर्यटक आते हैं। आने वाले सैलानियों के लिए मानसून में सबसे बड़ा आकर्षण बनते हैं यहाँ के विशेष व्यंजन। आज हम आपको राजस्थान में मानसून आने पर पसंद की जाने वाली डिशेज के बारे में बताने जा रहे हैं जो मानसून का मजा ओर बढ़ा देती हैं।

होटल की छत पर बना ये है दुनिया का सबसे लंबा स्वीमिंग पूल, जानिए कहां है और कैसे लेंगे इसका मजा

* राजस्थानी टिक्का पराठा बारिश के मौसम में गरमा-गर्म और चटखारे स्वाद का इंतजार सभी को रहता है। ब्रेकफास्ट में भी कुरकुरे स्वाद से भरपूर गरमा-गर्म राजस्थानी टिक्का पराठा मिल जाए तो क्या कहने। टोमैटो सॉस और हरी धनिया की चटनी व दही के साथ बरसात के मौसम में पराठा खाने का मजा ही कुछ और होता

* हींग की कचौरी देश में कचौरी सबसे पॉपुलर स्नैक्स मानी जाती है और हो भी क्यों ना, इसका स्वाद ही इतना निराला होता है। अगर यह गरमा-गर्म सीधी कढ़ाई से निकाल कर खाई जाए तब तो इसके स्वाद के कहने ही क्या। यह भले ही कैलोरी में थोड़ी हाई जरूर होती हो, लेकिन जब इसे बारिश के मौसम में खाया जाए तो मजा ही कुछ और है।

* मूंग दाल की पकौड़ी बरसात के दिनों में फैमिली के लोग अक्सर एक साथ शाम को कॉफी और चाय का मजा लेते हैं। इस दौरान गरमा-गर्म चाय के साथ चटकदार पकौड़े मिल जाए तो सोने पर सुहागा हो जाता है। मूंग दाल की पकौड़ी काफी एनर्जेटिक होने के साथ बारिश के मौसम की खूबसूरती में जायकेदार तड़का लगाने के लिए काफी होता है।

बारिश में चाहते हैं घूमना तो इन जगहों पर आकर लें दोगुना मजा

* प्याज की कचौरी जयपुर ही नहीं बल्कि पूरे राजस्थान में मशहूर है। यूं तो पूरे वर्ष पसंद की जाती है, लेकिन बारिश के मौसम में इसके स्वाद की डिमांड और बढ़ जाती है। इसे धनिया और लहसुन की चटनी के अलावा कढ़ी के साथ लोग खाना पसंद करते हैं।

* मिर्ची बड़ा  मोटी कम तीखी मिर्च में भुना हुआ आलू

गर्मी और उमस का नहीं होगा यहां अहसास

मॉनसून के मौसम में राजस्‍थान में भीड़ भी बहुत कम रहती है। मॉनसून में राजस्‍थान में सिर्फ स्‍थानीय लोग ही घूमने आते हैं और ऑफबीट पर्यटक भी आते हैं। अगर आप किसी ऐसी जगह पर घूमना चाहते हैं जहां भीड़ कम हो तो आपको इस मॉनसून में राजस्‍थान घूम आना चाहिए। गर्मी और उमस के लिए मशहूर इस राज्‍य में कई झीलें हैं जोकि सालभर पानी से सराबोर रहती हैं। लेकिन मॉनसून के मौसम में इन झीलों में पानी की मात्रा बढ़ जाती है। मॉनसून में बारिश की वजह से झील और तालाबों में पानी खूब बहने लगता है और राजस्‍थान का एक नया ही रूप नज़र आता है। पिछोला झील से लेकर पुष्‍कर झील तक राजस्‍थान की हर झील पानी से मॉनसून के दौरान भर जाती है।मॉनसून के मौसम में किले और महलों का सौंदर्य बहुत बढ़ जाता है। उदयपुर के सिटी पैलेस से पिछोला झील का खूबसूरत नज़ारा देखने को मिलता है। ये पहाड़ों से भी घिरा हुआ है।भारत में मोर बहुत ही कम देखने को मिलते हैं। राजस्‍थान उन चुनिंदा जगहों में से एक है जहां पर आप सुंदर मोर देख सकते हैं और मॉनसून के मौसम में राज्‍स्‍थान में हर जगह मोर नाचते हुए देख सकते हैं। ग्रेट इंडियन डेज़र्ट थार रेगिस्‍तान की खूबसूरती मॉनसून के मौसम में और भी बढ़ जाती है। राजस्‍थान की गर्मी में आप रेगिस्‍तान नहीं घूम पाते हैं लेकिन मॉनसून में आपकी ये मुराद जरूर पूरी हो सकती है। मॉनसून में राजस्‍थान में आपको प्रकृति के कई नायाब तोहफे मिलेंगें। रेतीले रेगिस्‍तान के ठंडे मौसम में सैर करना एक अलग ही अनुभव देगा। मॉनसून के दौरान ग्रेट इंडियन डेज़र्ट का सौंदर्य स्‍वर्ग की तरह लगता है।