हनीमून को बनाना चाहते हैं यादगार तो इस जगह को करें एक्सप्लोर

मनाली के बौद्ध मठ बहुत लोकप्रिय हैं। कुल्लू घाटी के सर्वाधिक बौद्ध शरणार्थी यहां बसे हुए हैं। यहां का गोधन थेकचोकलिंग मठ काफी प्रसिद्ध है। साल 1969 में इस मठ को तिब्बती शरणार्थियों ने बनवाया था।

हनीमून को बनाना चाहते हैं यादगार तो इस जगह को करें एक्सप्लोर

हनीमून को बनाना चाहते हैं यादगार तो इस जगह को करें एक्सप्लोर

मनाली: आपकी नई शादी हुई है? आप हनीमून के लिए कोई रोमांटिक हिलस्टेशन देख रहे हैं? परेशान न हों, ये खबर आपके लिए है। दरअसल, आज हम आपको बताएंगे मनाली की खूबसूरती के बारे में। इसके बाद आप अपना हनीमून यहां न प्लान करें तो पैसे वापस। कुल्लु घाटी के उत्तर में स्थित मनाली हिमाचल प्रदेश का लोकप्रिय हिल स्टेशन है, जिसपर प्रकृति काफी मेहरबान है।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश का तीर्थस्थल है 88 हजार ऋषियों की तपस्थली, यहां तप करने से जाएंगे ब्रह्मलोक

समुद्र तल से 2050 मीटर की ऊंचाई पर स्थित मनाली व्यास नदी के किनारे बसा है। आप यहां के खूबसूरत प्राकृतिक दृश्यों के अलावा मनाली में हाइकिंग, पैराग्लाइडिंग, राफ्टिंग, ट्रैकिंग, कायकिंग जैसे खेलों का भी आनंद उठा सकते है। यहां के जंगली फूलों और सेब के बगीचों से छनकर आती सुंगंधित हवाएं दिलो दिमाग को ताजगी से भर देती हैं।

यह भी पढ़ें: 4 साल के परिश्रम का परिणाम,यहां समुद्र में मिला है तीसरी व चौथी शताब्दी के मंदिर का अवशेष

मनाली को पौराणिक ग्रंथों में मनु का घर कहा गया है। कहा जाता है कि जब सारा संसार प्रलय में डूब गया था तो एकमात्र मनु की जीवित बचे थे। मनाली में आकर ही उन्होनें मनुष्य की पुर्नरचना की। इसलिए मनाली को हिन्दुओं का पवित्र तीर्थस्थल भी माना जाता है। इसलिए आज हम आपको मनाली की फेमस जगहों के बारे में बताएंगे।

हिडिम्बा मंदिर

समुद्र तल से 1533 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह मंदिर धूंगरी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। मंदिर यहां की स्थानीय देवी हिडिम्बा को समर्पित है। हिडिम्बा महाभारत में वर्णित भीम की पत्नी थी। मई के महीने में यहां एक उत्सव मनाया जाता है। महाराज बहादुर सिंह ने यह मंदिर 1553 ई में बनवाया था। लकड़ी से निर्मित यह मंदिर पैगोड़ा शैली में बना है।

विंटर वेकेशन कर रहे हैं प्लान तो एक जरुर जाएं मनाली

वशिष्ठ कुण्ड

मनाली से 3 किलोमीटर दूर वशिष्ठ स्थित है। प्राचीन पत्थरों से बने मंदिरों का यह जोड़ा एक दूसरे के विपरीत दिशा में है। एक मंदिर भगवान राम को और दूसरा संत वशिष्ठ को समर्पित है।

विंटर वेकेशन कर रहे हैं प्लान तो एक जरुर जाएं मनाली

मणिकरण

समुद्र तल से 1700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित मणिकरण गर्म पानी का झरना है। कहा जाता है शिव की पत्नी पार्वती के कर्णफूल यहां खो गए थे। उसके बाद से इस झरने का जल गर्म हो गया। हजारों लोग यहां के जल में पवित्र डुबकी लगाने दूर-दूर से आते हैं। यहां का पानी इतना गर्म है कि इसमें चावल, दाल और सब्जियों को उबाला जा सकता है।

बौद्ध मठ

मनाली के बौद्ध मठ बहुत लोकप्रिय हैं। कुल्लू घाटी के सर्वाधिक बौद्ध शरणार्थी यहां बसे हुए हैं। यहां का गोधन थेकचोकलिंग मठ काफी प्रसिद्ध है। साल 1969 में इस मठ को तिब्बती शरणार्थियों ने बनवाया था।

Himalaya Nyingmapa Buddhist Temple

रोहतांग दर्रा

मनाली से 50 किलोमीटर दूर समुद्र तल से 4111 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह दर्रा साहसिक पर्यटकों को बहुत रास आता है। दर्रे के पश्चिम में दसोहर नामक एक खूबसूरत झील है। गर्मियों के दिनों मे भी यह स्थान काफी ठंडा रहता है। जून से नवंबर के बीच लाहौल घाटी से यहां पहुंचा जा सकता है। यहां से कुछ दूरी पर सोनपानी ग्लेशियर है।

Rohtang Pass

व्यास कुंड

यह कुंड पवित्र व्यास नदी का जल स्रोत है। व्यास नदी में झरने के समान यहां से पानी बहता है। यहां का पानी एकदम साफ और इतना ठंडा होता है कि उंगलियों को सुन्न कर देता है। इसके चारों ओर पत्थर ही पत्थर हैं और वनस्पतियां बहुत कम हैं।

ओल्ड मनाली

मनाली से 3 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में ओल्ड मनाली है जो बगीचों और प्राचीन गेस्टहाउसों के लिए काफी प्रसिद्ध है। मनालीगढ़ नामक क्षतिग्रस्त किला भी यहां देखा जा सकता है।

मनु मंदिर

ओल्ड मनाली में स्थित मनु मंदिर महर्षि मनु को समर्पित है। यहां आकर उन्होंने ध्यान लगाया था। मंदिर तक पहुंचने का मार्ग दुरूह और रपटीला है।

अर्जुन गुफा

कहा जाता है महाभारत के अर्जुन ने यहां तपस्या की थी। इसी स्थान पर इन्द्रदेव ने उन्हें पशुपति अस्त्र प्रदान किया था।