चित्रकूट पुलिस देखती रह गई, फिरौती लेकर डकैत ने व्यापारी को छोड़ा

स्वतंत्रता दिवस की रात घर से अगवा किये गये खोवा व्यापारी किसान को यूपी-एमपी पुलिस के लिए चुनौती बने सात लाख के दुर्दांत इनामी डकैत बबुली कोल व लवलेश कोल ने फिरौती के बाद सोमवार की देर रात छोड़ दिया।

लखनऊ: स्वतंत्रता दिवस की रात घर से अगवा किये गये खोवा व्यापारी किसान को यूपी-एमपी पुलिस के लिए चुनौती बने सात लाख के दुर्दांत इनामी डकैत बबुली कोल व लवलेश कोल ने फिरौती के बाद सोमवार की देर रात छोड़ दिया।

उसे डकैत गिरोह ने चित्रकूट जिले के मानिकपुर थाना क्षेत्र के करौंहा गांव के घनघोर जंगल में रिहा किया। पैदल चलकर किसी तरह से अपहृत रात दो बजे अपने घर पहुंचा।

कहा जा रहा है कि डकैत गिरोह ने खोवा व्यापारी को मुक्त करने से पहले परिजनों से करीब पांच लाख की रकम बतौर फिरौती वसूली है।

ये भी पढ़ें…यूपी: डीजे बजाने की अनुमति देने पर हाई कोर्ट ने लगाई रोक, कही ये बड़ी बात

इधर लगातार पांच दिन तक पुलिस अपहृत को सकुशल मुक्त कराने का दावा करते हुए डकैत गिरोह की तलाश में सिर्फ पाठा के जंगलों में लकीर पीटती रही।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि सात लाख रुपये का इनामी डकैत बबुली कोल व उसके दायां हाथ ढाई लाख रुपये का इनामी लवलेश कोल ने स्वतंत्रता दिवस की रात करीब नौ बजे मानिकपुर थाना क्षेत्र के बरहा कोलान गांव से खोवा व्यापारी किसान बृजमोहन पांडेय को अगवा किया था।

पत्नी रात भर अकेली घर में कैद रही

डकैत गिरोह व्यापारी व उसकी पत्नी गजरानी का मोबाइल भी साथ ले गए थे। इसके बाद घर के दरवाजे की बाहर से कुंडी बंद कर पत्नी को अंदर कैद कर दिया था।

पत्नी रात भर अकेली घर में कैद रही। उसने सुबह परिजनों को घटना की जानकारी दी थी। परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने डकैत बबुली कोल व लवलेश कोल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर अपहृत की तलाश शुरू की थी।

डकैत बबुली कोल ने वारदात के दूसरे ही दिन अपहृत के फोन से परिजनों को फोन करके 50 लाख की फिरौती मांगी थी। इसके बाद डकैत गिरोह लगातार फिरौती की रकम कम करता गया।

अपहृत को सकुशल मुक्त कराने के लिए पुलिस की पांच टीमों को लगाया गया।

ये भी पढ़ें…विराट कोहली विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में खेलने को लेकर काफी उत्साहित, कही ये बातें

पांच लाख की फिरौती वसूली

इधर अपहृत को मुक्त कराने के प्रयास में परिजन भी लगे रहे। सूत्रों का मानना है कि परिजनों से डकैत गिरोह ने फिरौती के तौर पर करीब पांच लाख की रकम मिलने के बाद अपहृत को सोमवार की आधी रात को करौंहा के जंगल में रिहा कर दिया।

कुछ ही घंटों में अपहृत बृजमोहन पांडेय रात करीब दो बजे अपने गांव बगदरी परिजनों के बीच पहुंचा।

मंगलवार सुबह जैसे ही अपहृत के सकुशल मुक्त होकर घर पहुंचने की जानकारी पुलिस को मिली तो पुलिस अपहृत के घर बगदरी पहुंची। पुलिस अधिकारी अपहृत से पूछताछ में जुट गए।

ये भी पढ़ें…जानिए क्यों ओवैसी को पीएम मोदी का ट्रंप से फोन पर बात करना नहीं आया रास?