आपका बेबी रहेगा अस्थमा से मुक्त, अगर प्रेग्नेंसी के दौरान करेंगी ये काम

प्रेग्नेंसी के दौरान जो महिलाएं मछली का सेवन करती हैं, उनके बच्चे अस्थमा से मुक्त रह सकते हैं। एक नए अध्ययन के अनुसार, यह ठीक उसी प्रकार काम करता है, जिस तरह मछली के तेल की पूरक खुराक करती है।

आपका बेबी रहेगा अस्थमा से मुक्त, अगर प्रेग्नेंसी के दौरान करेंगी ये काम

आपका बेबी रहेगा अस्थमा से मुक्त, अगर प्रेग्नेंसी के दौरान करेंगी ये काम

न्यूयॉर्क : प्रेग्नेंसी के दौरान जो महिलाएं मछली का सेवन करती हैं, उनके बच्चे अस्थमा से मुक्त रह सकते हैं। एक नए अध्ययन के अनुसार, यह ठीक उसी प्रकार काम करता है, जिस तरह मछली के तेल की पूरक खुराक करती है।

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में ओमेगा-3 वसा अम्ल की उच्च खुराक लेने वाली प्रेग्नेंट महिलाओं के बच्चों को अपने प्रांरभिक दिनों में विकसित होने वाली सांस की समस्याओं से सुरक्षा मिलती है।

यह भी पढ़ें … महामारी का रूप लेता मोटापा, आपकी सेक्स पावर को कर रहा कमजोर

अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ फ्लोरिडा के प्राध्यापक रिचर्ड लॉकी ने कहा, “एक सप्ताह में एक बार थोड़ी अधिक कीमत चुकाकर कम पारे के स्तर वाली मछली का उपभोग न केवल अस्थमा से रक्षा करता है, बल्कि शिशु के विकास और विकास के पोषण संबंधी लाभों को भी मजबूत करता है।”

यह भी पढ़ें … नहीं होगा पानी के लिए वर्ल्ड वॉर, ये मशीन वो करती है जो आपने सोचा भी ना होगा

तीन समूहों में शोध किया गया। पहले समूह को मछली के तेल वाले ओमेगा-3 वसा अम्ल का सेवन कराया गया, जबकि दूसरे समूह ने प्लेसबो का इस्तेमाल किया था। तीसरा समूह ‘नो ऑयल’ समूह था, जिसे उनकी पसंद के अनुसार मछली या मछली के तेल की पूरक खुराक दी गई थी।

शोधकर्ताओं ने पाया कि मछली के तेल और ‘नो ऑयल’ समूहों के बच्चों को 24 वर्ष की आयु पर पहुंचने के दौरान अस्थमा संबंधी चिकित्सा का कम सामना करना पड़ा, और इन दोनों समूहों में अस्थमा का कम विकास देखा गया।

–आईएएनएस