CM चंद्रबाबू की नई पहल, अमरवती में बनेगा विश्वस्तरीय बिजनेस स्कूल

CM चंद्रबाबू की नई पहल, अमरवती में बनेगा विश्वस्तरीय बिजनेस स्कूल

विशाखापत्तनम: आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू हमेशा कुछ नया करने की कोशिश में लगे रहते हैं। हैदराबाद में देश का अनोखा आईटी हब बनाने में उन्हीं की भूमिका थी मगर आंध्र प्रदेश के विभाजन के कारण यह उसके हाथ से निकल गया। अब उन्होंने एक नए काम का बीड़ा उठाया है। चंद्रबाबू नायडू अमरवती राजधानी क्षेत्र में विश्वस्तरीय बिजनेस स्कूल स्थापित करने का बीड़ा उठाया है। नायडू के सपनों का यह स्कूल 100 एकड़ जमीन पर बनेगा और इस पर करीब 500 करोड़ का खर्च आएगा।

विश्व के नामी संस्थानों से ली जाएगी मदद

आंध्र प्रदेश के विकास में नायडू की सोच की बड़ी भूमिका मानी जाती रही है। आंध्र प्रदेश के विभाजन के कारण हैदराबाद का आईटी हब हाथ से निकल जाने के बाद उन्होंने नया सपना देखा है। हैदराबाद के इंडियन बिजनेस स्कूल की तरह ही वे आंध्र की प्रस्तावित नई राजधानी अमरवती में एक ऐसा बिजनेस स्कूल स्थापित करने की कोशिश में जुटे हैं जो विश्व स्तर के बिजनेस स्कूलों का मुकाबला कर सके। अपनी महत्वपूर्ण उपलब्धियों के तेलंगाना में छूट जाने के कारण नायडू ने आंध्र के खाते में कुछ नया करने का सपना बुना है।

हैदराबाद के आईएसबी को पीछे छोडऩे के लिए यह नया बिजनेस स्कूल पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के आधार पर बनाया जाएगा। इसके लिए बहुत लंबी चौड़ी एरिया यानी सौ एकड़ जमीन मुहैया कराई जाएगी। इसे सर्वोत्कृष्ट बनाने के लिए विश्व के नामी संस्थानों लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, हार्वर्ड केनेडी स्कूल, नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर और यूर्निवर्सिटी ऑफ बर्मिंघम से मदद ली जाएगी।

परियोजना में विश्व बैंक,एशियन डेवलपमेंट और बिल व मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन से मदद लेने का खाका तैयार किया गया है। इस परियोजना को अमली जामा पहनाने की जिम्मेदारी आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यसचिव एस.पी.टकर को सौंपी गयी है। उन्होंने बताया कि योजना बनायी गयी है कि दस या इससे ज्यादा पार्टनर 50 करोड़ का योगदान करेंगे और उन्हें गवर्निंग बॉडी में शामिल किया जाएगा।

आईएसबी के संस्थापक डीन व अशोका यूनिवर्सिटी के सह संस्थापक प्रमथ राज सिन्हा को भी इस परियोजना को पूरा करने के काम में लगाया गया है। टकर ने कहा कि हमने इस बाबत सिन्हा से बातचीत की है और उन्होंने हमारा सलाहकार बनने और इंस्टीट्यूट की स्थापना में पूरी मदद देने पर रजामंदी दे दी है। टकर आंध्र प्रदेश आर्थिक विकास बोर्ड के भी उपाध्यक्ष हैं। इस नए संस्थान का मॉडल आईएसबी सरीखा ही होगा, लेकिन इसका रूप उससे बड़ा होगा। इसका मकसद गरीबी खत्म करना और सामाजिक विकास का भी होगा।

प्रबंधकीय क्षमता विकसित करेगा संस्थान
टकर का कहना है कि नायडू को हैदराबाद में आईएसबी की स्थापना का सफल अनुभव है। अब हमने अमरवती में इससे भी बड़े संस्थान का सपना देखा है। हमने इसके ब्लू प्रिंट के संबंध में मुख्यमंत्री से चर्चा की है। वे इसके स्वरूप को लेकर दिशा निर्देश देंगे। यह संस्थान स्वतंत्र व गैर लाभकारी संगठन होगा। प्रबंधकीय क्षमता विकसित करने के अलावा सलाह देने, विश्वस्तरीय वार्षिक चर्चा, काम का मूल्यांकन जैसे काम भी करेगा।