आईआईएम में बोले सीएम योगी- जीवन सीखने के लिए होता है

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को आईआईएम के प्रशिक्षण कार्यक्रम में कहा कि जीवन सीखने के लिए होता है। जीवन की प्रत्येक घटना से कुछ न कुछ सीखने को मिलता है।

Published by Aditya Mishra Published: September 8, 2019 | 9:10 pm
Modified: September 8, 2019 | 9:11 pm

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को आईआईएम के प्रशिक्षण कार्यक्रम में कहा कि जीवन सीखने के लिए होता है।

जीवन की प्रत्येक घटना से कुछ न कुछ सीखने को मिलता है। सीखने के लिए जहां कहीं भी अवसर मिले उसका लाभ अवश्य लेना चाहिए।

मुख्यमंत्री यहां भारतीय प्रबन्धन संस्थान (आईआईएम), लखनऊ में आयोजित लीडरशिप डेवलपमेन्ट ‘मंथन-1’ कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।

ये भी पढ़ें…आजम के समर्थन में उतरी सपा, इस तारीख को तहसील स्तर पर देगी धरना

देश के सर्वांगीण विकास में शिक्षण कार्यक्रम सहायक सिद्ध होंगे

उन्होंने कहा कि आईआईएम के सहयोग से मंथन कार्यक्रम के तीन विशेष सत्रों का आयोजन किया जा रहा है, जिसका प्रथम सत्र आज आयोजित किया गया है। प्रदेश के सर्वांगीण विकास में इस तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम सहायक सिद्ध हो सकते हैं।

योगी ने कहा कि राज्य सरकार विगत ढाई वर्षाें में जनता की आशाओं और आकांक्षाओं की कसौटी पर खरी उतरी है। उनकी सरकार राज्य को श्रेष्ठ बनाने की दिशा में सकारात्मक प्रयास कर रही है।

इसके दृष्टिगत प्रदेश सरकार सुशासन, प्रबंधन, नेतृत्व कौशल व जनभागीदारी को बेहतर ढंग से जानने के लिए आईआईएम संस्थान से सहयोग प्राप्त कर रही है।

पहली बार किसी राज्य सरकार ने देश में अपने राजनीतिक नेतृत्व की दक्षता के लिए देश के श्रेष्ठ प्रबन्धन संस्थान से प्रशिक्षण लेने का फैसला किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ‘सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास’ की अवधारणा को अपनाते हुए जनता की सेवा कर रही है। अपना अनुभव साझा करते हुए उन्होंने कहा कि एक प्रशासनिक अधिकारी द्वारा दिये गये सुझावों को प्राथमिक विद्यालयों पर लागू किया, जिसके सकारात्मक परिणाम आये।

ये भी पढ़ें…मोदी सरकार के 100 दिन के कार्यकाल पर प्रियंका ने कसा तंज, कही ये बड़ी बात

शासन की योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में शिक्षण संस्थान महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।  कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए आईआईएम की निदेशक प्रो. अर्चना शुक्ला ने कहा कि मुख्यमंत्री की प्रेरणा से यह कार्यक्रम सम्पन्न हो रहा है।

उत्तर प्रदेश भारत की रीढ़ है। प्रदेश का विकास करके ही हम देश के विकास में सहभागी बन सकते हैं। एक राजनेता से जनता को काफी उम्मीदें होती हैं। इन उम्मीदों को पूरा करने में यह मंथन कार्यक्रम महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इस अवसर पर राज्य सरकार के मंत्रिगण, आईआईएम लखनऊ के शिक्षाविद् भी उपस्थित थे।

तीन चरणों में दिया जा रहा प्रशिक्षण

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी की पहल पर आईआईएम लखनऊ में प्रदेश के सभी मंत्रियों को तीन चरणों में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। आज पहले चरण में सभी मंत्री पूर्वाह्न साढ़े नौ बजे से शाम छह बजे तक प्रशिक्षित किये गये।

अब दूसरे और तीसरे चरण के सत्र क्रमशः 15 व 22 सितम्बर को आयोजित कराए जाएंगे। प्रशिक्षण के दौरान आईआईएम के प्रोफेसर मंत्रियों को उनके कामकाज की जरूरतों के हिसाब से उन्हें प्रशिक्षित कर रहे हैं।

फाइलों के अध्ययन से लेकर तय समय में उनके निस्तारण और योजनाओं को तेजी से अमल कैसे कराया जाए। इस सब के गुर उन्हें सिखाए जा रहे हैं। इसके अलावा उन्हें बजट प्रबंधन के बारे में भी बताया जाएगा।

ये भी पढ़ें…कमलनाथ का इस्तीफा सोनिया गांधी ने किया मंजूर :सूत्र

 

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App