बजट 2020

इसी बीच केजरीवाल ने कहा कि अमित शाह कह रहे हैं कि दिल्ली की जनता उन्हें ब्लैंक चेक दे दे बाद में वो सीएम का फैसला करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा के पास चेहरा नहीं है तो उनको दिया वोट किसके पास जाएगा।

पीएम मोदी के इस वीडियो के साथ राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा, 'डियर पीएम, कृपया अपने जादुई व्यायाम दिनचर्या को और आजमाएं। आपको क्या पता, शायद इससे अर्थव्यवस्था चलने लगे।

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के दूसरे आम बजट ने बाजार को निराश किया। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश किया। वित्त मंत्री ने इनकम टैक्स स्लैब में बदलाव किया। साथ ही साथ ही कंपनियों पर डीडीटी (DDT) खत्म करने का भी ऐलान किया।

नई शिक्षा नीति के साथ देश में शिक्षा व्यवस्था को नया स्वरूप प्रदान किया जाएगा। शिक्षा के लिए प्रस्तावित 99300 करोड रूपए की राशि का स्वागत करते हुए उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा को गरीब व वंचित की पहुंच में लाने में केन्द्र सरकार के बजट में प्रस्तावित आनलाइन कार्यक्रम अहम भूमिका निभाएगा।

सरकारी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में नॉन-गैजेटेड पोस्ट पर भर्तियों को आसान किया जा रहा है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण में बताया कि परीक्षार्थियों को कई चरणों में परीक्षा देने की जगह अब एक ही ऑनलाइन परीक्षा देनी होगी।

मोदी सरकार 2.0 का अपना पहला पूर्ण आम बजट आज सदन में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने पेश किया । इस बजट पर देश के सभी वर्गों की आस लगी हुई थी मगर बजट सामने आते ही कुछ लोगों की आशा, निराशा में बदल गयी । आज बाराबंकी के किसानों से हमने उनसे इनकी आशाओं के सम्बन्ध में बात की ।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह बजट जन-जन का बजट है। किसानों, गरीबो, मध्यम वर्ग और महिलाओं को लाभ पहुंचाने वाला एक सर्वस्पर्शी व कल्याणकारी आम बजट 2020-21 के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  एवं वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण जी को हृदय से बधाई देता हूं।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट पेश कर दिया है, लेकिन यह बजट शेयर बाजार को पसंद नहीं आया। बजट में किए गए ऐलानों से बाजार धड़ाम हो गया और सेंसेक्स-निफ्टी में 10 साल में सबसे बड़ी गिरावट देखी गई।

वित्त मंत्री ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट-ऑफ-थिंग्स (आईओटी), 3-डी प्रिंटिंग, ड्रोन, डीएनए डाटा स्टोरेज, क्वांटम कम्प्युटिंग जैसी प्रौद्योगिकियां विश्व की अर्थव्यवस्था की पटकथा लिख रही हैं।

निर्मला सीतारमन ने कहा, “एक स्वच्छ विश्वसनीय और ठोस वित्तीय क्षेत्र अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण है। 5 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था हासिल करने के हमारे प्रयासों में, वित्तीय ढांचा विकसित होते रहने चाहिए और अधिक से अधिक सुदृढ़ होना चाहिए।”निजी पूंजी का प्रवाह जारी रखने के लिए सीतारमण ने आईडीबीआई बैंक में सरकार के शेष पूंजी स्टॉक के माध्यम से निजी, खुदरा और संस्थागत निवेशकों को बेचने का प्रस्ताव रखा।