आईसीसी वर्ल्ड कप फाइनल: गलती की अंपायर्स ने, कीमत चुकाई न्यूजीलैंड ने

न्यूजीलैंड की पारी के दौरान हेनरी निकोल्स को धर्मसेना ने तीसरे ओवर में एलबीडब्ल्यू आउट करार दिया था। हालांकि, गेंद स्टंप्स के ऊपर से जाने की वजह से उन्हें रिव्यू के बाद नाबाद करार दे दिया गया था।

आईसीसी वर्ल्ड कप फाइनल: गलती की अंपायर्स ने, कीमत चुकाई न्यूजीलैंड ने

आईसीसी वर्ल्ड कप फाइनल: गलती की अंपायर्स ने, कीमत चुकाई न्यूजीलैंड ने

लंदन: आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 खत्म हो चुका है और दुनिया को नया चैंपियन भी मिल गया है। इंग्लैंड ने रोमांच की पराकाष्ठा तक पहुंचे वर्ल्ड कप फाइनल में रविवार को यहां मैच और सुपर ओवर के ‘टाई’ छूटने के बाद न्यूजीलैंड पर ‘बाउंड्री’ के दम पर पार पाकर पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया।

यह भी पढ़ें: CWC19 Final: बेन स्टोक्स और ‘बाउंड्री’ के दम पर इंग्लैंड बना वर्ल्ड चैंपियन

हालांकि, यह मैच काफी सुर्खियां बटोर रहा है। दरअसल, एक बार फिर यह मैच फील्ड अंपायर की अंपायरिंग को लेकर चर्चा में है। न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया था। न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड के सामने 242 रनों का लक्ष्य दिया था। न्यूजीलैंड की पारी के दौरान कुमार धर्मसेना और मारेयस ऐरामस ने तीन गलत फैसले दिए, जिसकी वजह से न्यूजीलैंड वर्ल्ड कप 2019 का ख़िताब जीतने चूक गया।

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: टाई हुआ वर्ल्ड कप का फाइनल

न्यूजीलैंड की पारी के दौरान हेनरी निकोल्स को धर्मसेना ने तीसरे ओवर में एलबीडब्ल्यू आउट करार दिया था। हालांकि, गेंद स्टंप्स के ऊपर से जाने की वजह से उन्हें रिव्यू के बाद नाबाद करार दे दिया गया था। बाद में 23वें ओवर में लिएम प्लंकेट की गेंद केन विलियमसन के बल्ले से लगकर विकेटकीपर के हाथों में गई, लेकिन धर्मसेना ने आउट करार नहीं दिया।

यह भी पढ़ें: CWC19 Final: क्या इंग्लिश टीम पर है कीवियों का दबदबा!

ऐसे में इंग्लैंड ने फैसले पर रिव्यू लिया और फैसला उनके पक्ष में गया। अब बात करते हैं 34वें ओवर की। इस ओवर में रॉस टेलर को मारेयस ऐरामस ने मार्क वुड की गेंद पर एलबीडब्ल्यू करार दिया, जबकि रिप्ले में साफ था कि गेंद स्टंप्स के ऊपर से जा रही थी। मगर न्यूजीलैंड पहले ही रिव्यू गंवा चुकी थी, जिसकी वजह से टेलर को वापस जाना पड़ा।

बता दें कि ये पहला मौका नहीं है जब धर्मसेना पर सवाल उठे हों। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच सेमीफाइनल खेला गया था, तब भी धर्मसेना अपने गलत फैसले के कारण निशाने पर आ चुके हैं।