कॉन्डम सिर्फ परिवार नियोजन के लिए नहीं है, साहेब बहुत काम की चीज है

अपने देश में कॉन्डम खरीदने से पहले बंदा ऐसे हरकत करता है, जैसे आरडीएक्स खरीद रहा हो, कोई देख लेगा तो सीधे फांसी ही होगी। ऐसा इसलिए है, क्योंकि हम कॉन्डम को सिर्फ सेक्स के साथ जोड़कर अपने दिमाग में बसा चुके हैं।

लखनऊ : अपने देश में कॉन्डम खरीदने से पहले बंदा ऐसे हरकत करता है, जैसे आरडीएक्स खरीद रहा हो, कोई देख लेगा तो सीधे फांसी ही होगी। ऐसा इसलिए है, क्योंकि हम कॉन्डम को सिर्फ सेक्स के साथ जोड़कर अपने दिमाग में बसा चुके हैं। लेकिन आज हम आपको बता रहे हैं कि कॉन्डम का प्रयोग कहां और कैसे होता है।

ये भी देखें : कौन हैं ईश्वरचंद्र विद्यासागर, जिनकी मूर्ति तोड़े जाने पर बंगाल में बवाल है

लंदन में 21 वर्षों तक चले संगीतमय नाटक कैट्स के मंचन के दौरान कलाकार माइक को अपनी टाइट्स के अंदर रखते थे। शो के दौरान पसीने से माइक्रोफोन खराब न हो इसलिए उसपर कॉन्डम चढ़ाकर रखते थे।

इस नाटक में सिर्फ कॉन्डम ही खास नहीं था, बल्कि ये ऐसा नाटक था जिसमें कोई स्टोरी नहीं होती थी। बल्कि बिल्लियों की तरह ड्रेस पहने कलाकार नजर आते थे।

11 मई 1981 को इस नाटक का पहली बार मंचन हुआ था जिसके बाद ये पूरे 21 साल चलता रहा।

आपको हैरत होगी कि टीएस इलिएट की कविताओं पर आधारित नाटक में हर बिल्ली का अपना एक चरित्र होता था।

ये भी देखें : अक्षय कुमार से बदला लिया भूषण कुमार ने, दिखाया ‘भूल भुलैया 2’ से बाहर का रास्ता

मध्य पूर्वी देशों बहरीन, इराक, ईरान, इजराइल, यमन, जॉर्डन, कतर, कुवैत, लेबनान, ओमान, फिलिस्तीन, सउदी अरब, सीरिया, तुर्की, संयुक्त अरब अमीरात और साइप्रस में सड़क बनाने वाले मजदूर कॉन्डम डामर की टंकी में डाल देते हैं, ताकि रास्ता चिकना बन सके।

क्या आप जानते हैं, बनारसी साड़ी बनाते समय भी कॉन्डम का प्रयोग होता है। एक बनारसी साड़ी बनाने के लिए 14 कॉन्डम की आवश्यकता होती है। इन्हें उल्टा कर बॉबिन पर रगड़ा जाता है, ताकि उसमें चिकनाई आ सके और धागा आसानी से उसके अंदर जा सके।

ये भी देखें :मलाइका अरोड़ा की वजह से सलमान हुए बदनाम, दबंग3 में मुुन्नी का मुन्ना धमाका

साड़ी बनाने वाले कारीगर कॉन्डम का इस्तेमाल अपनी उंगलियों पर भी करते हैं ताकि साड़ी बनाते समय वो कटने से बच सके।

कॉन्डम का प्रयोग रायफल बैरल को जंग से बचाने में भी किया जाता है।

बारिश के मौसम में इलैक्टॉनिक प्रोडक्ट को पानी से बचाने के लिए भी कॉन्डम का प्रयोग होता है।

स्विमिंग के दौरान भी कॉन्डम का प्रयोग किया जाता है, ताकि छोटे कैटफ़िश से बचा जा सके।

आपको बता दें, कैटफिश मूत्र और रक्त की तरफ आसानी से आकर्षित होते हैं।